गर्मी का मौसम जानलेवा बनता जा रहा है. हर साल गर्मी अपने पिछले साल का रिकौर्ड तोड़ रही है. सर्दी के 3-4 महीने के अलावा पूरे साल गर्मी रहती है. लेकिन लाख चाहने के बाद भी घर पर बंद होकर तो रहा नहीं जा सकता. बाहर निकलना भी जरूरी है. कड़कड़ाती गर्मी और सड़क पर लगे जाम को झेलना भी. यह सब झेला जा सकता है, सेहत के प्रति थोड़ा सचेत रह कर. इसके लिए शरीर के साथ मन को भी तरोताजा और ठंडा होगा. गर्मी में शरीर को अधिक से अधिक पानी की जरूरत होती है. गर्मी के दिनों में शरीर का पानी सूखता है. इसलिए पानी के साथ अलग-अलग तरह के तरल की भी जरूरत पड़ती है. शरीर में पानी की कमी होना डिहाइड्रेशन कहलाता है. यह जानलेवा भी हो सकता है. इसलिए शरीर में पानी मात्रा को बनाए रखना जरूरी है.

पानी की मात्रा को बनाए रखने के लिए पानी काफी नहीं है. इसके साथ खाने के पैटर्न में भी बदलाव जरूरी है. डॉक्टर खाने के बजाए पेय पर ज्यादा से ज्यादा निर्भर रहने की सलाह देते हैं. वैसे इस मौसम में बाजार में किस्म-किस्म के शीतल पेय और बोतल से लेकर फलों के जूस के ताजा होने बड़े दावे करनेवाले ट्रेटा पैक के जूस आसानी से उपलब्ध हो जाते हैं. ये सब बेशक प्यास बुझाने और गर्मी से राहत देकर ठंडक जरूर महसूस कराते हैं. पर यह फौरी तौर पर राहत देते हैं. इस गर्मी में इतना काफी नहीं. सेहतमंद और पौष्टिक पेय भी जरूरी है, जो अंदरूनी तौर पर राहत दे. जाहिर है बोतलबंद और ट्रेटापैक जूस व पेय से बात नहीं बनेगी.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT