लंदन में चैंपियंस ट्रौफी में रजत पदक जीतने के बाद भारतीय हौकी टीम ने रियो ओलिंपिक में उम्मीदें बढ़ा दी हैं. एक समय में भारतीय हौकी की तूती बोलती थी. पिछले कुछ वर्षों में हौकी की जो दुर्दशा हुई है, इस के लिए खेल से जुड़े अधिकारियों और सरकार की उदासीनता कहीं न कहीं जिम्मेदार है. चैंपियंस ट्रौफी जैसे कई बड़ेबड़े खेल हुए मगर भारतीय हौकी को हमेशा नाकामयाबी मिली. इस के लिए भारतीय हौकी की कई पीढि़यां खप गईं, बावजूद इस के वह शीर्ष पर पहुंच न सकी.

COMMENT