सब से खास अनाज गेहूं के उत्पादन में भारत विश्व में दूसरे नंबर पर है. राष्ट्रीय अन्न उत्पादन में साल 1964-65 में गेहूं का योगदान करीब 34 फीसदी यानी 12.3 मीट्रिक टन था, जो साल 2012-13 में बढ़ कर 92.46 मीट्रिक टन हो गया. देश की मौजूदा उत्पादकता 3.21 टन प्रति हेक्टेयर है, जबकि विश्व की औसत उत्पादकता 3.16 टन प्रति हेक्टेयर है. उत्पादकता के इस अंतर का पूरा श्रेय शोध, प्रचार कार्यक्रमों व देश के प्रगतिशील किसानों को दिया जाना चाहिए.

ये भी पढ़ें- जैविक खेती से फायदा

गेहूं की कम उत्पादकता की खास वजहें

* बासमती धान गेहूं फसलचक्र के कारण देर से गेहूं की बोआई का होना.

* धान के बाद गेहूं की बोआई में खरपतवारों का ज्यादा प्रकोप होना.

* समय से उन्नतशील प्रजातियों के बीज मौजूद न होना.

* बीज उपचार न करना. सही विधि से सही गहराई पर बोआई न करना.

* सही खरपतवारनाशी का इस्तेमाल न करना.

ये भी पढ़ें- स्ट्रा ब्लोअर: भूसा भरने की मशीन

* सही उर्वरकों का इस्तेमाल न करना.

*  सही ढंग से सिंचाई न करना व सही समय पर कीटों व बीमारियों की रोकथाम न करना. प्रजातियों का चुनाव : सही उन्नतशील प्रजाति का चयन कर के समय पर सही विधि से बोआई करने से पैदावार में 15-20 फीसदी का इजाफा हो जाता है.

तापमान : गेहूं की अच्छी पैदावार के लिए जमाव के समय 20-22 डिगरी सेंटीग्रेड, बढ़वार के समय 15-20 डिगरी सेंटीग्रेड और दाना भरते समय 25 डिगरी सेंटीग्रेड तापमान सही होता है.

ये भी पढ़ें- चने की आधुनिक खेती

बोआई की विधि व बीज की मात्रा

* छिटकवां विधि : 125-130 किलोग्राम बीज प्रति हेक्टेयर.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

सरिता डिजिटल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

प्रिंट + डिजिटल प्लान

USD100USD79
12 महीने (24 प्रिंट मैगजीन+डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...