आजकल गरीबों पर तो मानो चौतरफा मार पड़ रही है. एक ओर जहां गरीब भुखमरी की मार झेल रहा है, वहीं सरकार भी मारने में पीछे नहीं है. क्योंकि सरकारी राशन में अब प्लास्टिक दाल मिल रही है यानी धांधली की बू नजर आ रही है.

राशन बांटने वाले सरकार को कुसूरवार ठहरा रहे हैं, वहीं सरकार भी उचित कार्यवाही का झुनझुना थमा कर लीपपोती में लगी है.

गरीब कार्डधारक अपनी समस्या बता रहे हैं कि प्लास्टिक दाल खा कर क्या हमारी तबीयत नहीं बिगडे़गी, वहीं राशन देेने वाले यही कह रहे हैं कि हम क्या करें जो एफसीआई के गोदाम से आ रहा है, वही बांट रहे हैं, पर कार्डधारक इस बात को सुनने को तैयार नहीं. यही वजह है कि वे दुकान पर जम कर हंगामा कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें-मोरिंगा खेती से बढ़ेगी किसान की आय

भले ही यह कसबा छोटा है, पर जब हंगामा मचा तो पता चला कि यहां प्लास्टिक दाल कार्डधारक लाभुकों को बांटी जा रही है और लोग लेने से मना कर रहे हैं.

इन लोगों का यही कहना है कि राशन सही नहीं मिल रहा है, जबकि राशन देने वाले कह रहे हैं कि जब खाद्य आपूर्ति विभाग ही इसे परोसने का काम कर रहा है तो इस में वे क्या कर सकते हैं.

गढ़वा, झारखंड के कांडी इलाके में हुई यह घटना 4 जून, 2020 की है. खाद्य आपूर्ति विभाग ही लोगों को प्लास्टिक मिली चना दाल दे रहा है तो वे क्या कर सकते हैं. जब प्रखंड मुख्यालय के कांडी बाजार स्थित जन वितरण प्रणाली

के डीलर सत्यम स्वयं सहायता समूह के द्वारा दर्जनों लाभुक कार्डधारकों के बीच राशन बांटने में अनियमितता देखने को मिली तो इन लोगों ने जन वितरण की दुकान पर जम कर बवाल काटा. साथ ही,  इन लोगों ने यह भी बताया कि डीलर द्वारा मनमानी तौर पर राशन वितरण में भी राशन की कटौती की जा रही है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT