लेखक- अभिषेक सिंह, आलोक कुमार सिंह एवं डा. राकेश सिंह सेंगर

धान, गेहूं जैसी परंपरागत फसलों में बढ़ती लागत और कम आमदनी के चलते किसान इन सभी परंपरागत फसलों को कम और ऐसे फसलों को ज्यादा तवज्जुह दे रहे हैं, जिन्हें एक बार लगाने पर कई बार आमदनी हो पाए. सहजन (सोजाना, साईजन, मोरिंगा और इंगलिश में ड्रमस्टिक्स) ऐसी ही फसलों में से एक है.

सहजन के बाग एक बार लगाने पर

5-8 साल तक फसल मिलती है. सहजन की पत्तियां और फलियों के साथ बीज की भी बहुत मांग होने के कारण यह बहुत महंगा बिकता है.

सहजन की खेती अभी तक कुछ राज्य जैसे आंध्र प्रदेश, राजस्थान, कर्नाटक और मध्य प्रदेश में ज्यादा होती थी, लेकिन देश में आयुर्वेदिक दवाओं का इस्तेमाल बढ़ने के साथ ही सरकार कई योजनाओं के जरीए इन्हें उत्तर प्रदेश, झारखंड जैसे राज्यों में भी बढ़ावा दे कर इस की खेती को बढ़ावा दिया जा रहा है.

ये भी पढ़ें-आड़ू की खेती पहाड़ों से मैदानों में

मोरिंगा के पौधों का रोपण

गांवदेहात में सहजन बिना किसी देखभाल के किसान अपने घरों के आसपास कुछ पेड़ लगा कर रखते हैं. इस के फल का उपयोग वे साल में 1 या 2 बार सब्जी के रूप में करते हैं.

भारत में सहजन के पारंपरिक प्रभेद के अतिरिक्त उन्नत प्रभेद पीकेएम-1, पीकेएम-2, कोयंबटूर-1 और कोयंबटूर-2 की खेती की जाती है.

मोरिंगा एक औषधीय पौधा है, जिस की उत्पत्ति भारत, पाकिस्तान, बांगलादेश और अफगानिस्तान के क्षेत्रों में हुई है. यह उष्ण कटिबंध में भी उगने वाला पौधा  है. मोरिंगा से संबंधित औषधि बनाने के लिए पत्ते, छाल, फूल, फल, बीज और जड़ का उपयोग किया जाता है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT