लेखक-  जितेंद्र द्विवेदी

बिहार के पश्चिमी चंपारण जिले के नौतन प्रखंड में ग्राम पंचायत जगदीशपुर का एक टोला डेगौना है, जहां50 प्रतिशत से अधिक किसान सब्जियों की खेती करते हैं. अनुसूचित जाति बहुल इस गांव को बाढ़ तो कभीकभार ही प्रभावित करती है, परंतु मौसम की मार किसानों पर समयसमय पर पड़ती ही रहती है.

असमय वर्षा, अधिक वर्षा, जाड़ा अथवा अधिक गरमी के कारण विशेषकर छोटे, मझोले किसान समय पर सब्जियों की खेती नहीं कर पाते, क्योंकि उन्हें समय पर नर्सरी की उपलब्धता नहीं हो पाती है. जब गोभी, टमाटर, बैगन, मिर्च आदि के बीजों से नर्सरी तैयार करने का समय होता है, उस समय बरसात का समय होने के कारण उन की जमीन में नमी अधिक होती है, जिस से वे बीज नहीं डाल पाते और समय पर नर्सरी तैयार नहीं होती. नतीजतन उन को दाम भी कम मिलता है.

ये भी पढ़ें-मौसमी के सेवन से नहीं होगा कोरोना

यहां पर सब्जी की खेती करने वाले किसानों के समक्ष आने वाली समस्याआें को बिंदुवार देख सकते हैं :

* प्रतिकूल मौसमों के चलते नर्सरी तैयार करने में बाधा आती है.

* नर्सरी के लिए बाजार पर निर्भरता होने के कारण गुणवत्तापूर्ण पौधों की उपलब्धता नहीं हो पाती.

* समय पर नर्सरी के पौधों के न मिलने से उपज और दाम दोनों पर विपरीत प्रभाव पड़ता है.

इन समस्याओं से निबटने के लिए गोरखपुर एन्वायरमेंटल एक्शन ग्रुप ने विज्ञान एवं तकनीकी डीएसटी कोर सपोर्ट परियोजना के तहत चयनित किसान छठिया देवी पत्नी सुरेश भगत की जमीन पर एक ग्रीन हाउस बनाने में अपना तकनीकी योगदान दिया. 30 फुट लंबाई व 20 फुट चौड़ाई वाले इस ग्रीनहाउस ने छठिया देवी के खेती की दिशा ही बदल दी.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT