हमारे देश में खाद्यान्न भंडारण के लिए जूट के बोरों की बेहद कमी के चलते हर साल हजारों टन अनाज बुरी तरह से बरबाद हो जाता है, जबकि आज भी भारत दुनिया के सब से बड़े जूट उत्पादक देश के रूप में मशहूर है. लेकिन हाल के कुछ सालों में देश में जूट की खेती में भारी कमी देखने को मिल रही है, जबकि जूट और उस से बने उत्पादों की मांग में लगातार बढ़ोतरी हुई है.

जूट के रेशे से न केवल बोरे बनाए जाते हैं  बल्कि इस से दरी, तंबू, तिरपाल, टाट, रस्सियां और निम्न कोटि के कपड़े तैयार किए जाते हैं. साथ ही, कागज, फैशनेबल चीजें, बैग, कंबल, पैकिंग से जुड़े उत्पाद जैसी सैकड़ों चीजों को बनाया जाता है.

भारत से आज भी कई देशों को जूट और उस से बनी तमाम चीजों का निर्यात किया जाता है. ऐसे में किसान अगर जूट की खेती उन्नत और बेहतर तरीके से करें, तो अपनी

ये भी पढ़ें-जायद सब्जियों का समेकित कीट प्रबंधन

आमदनी में अच्छाखासा इजाफा कर सकता है. क्योंकि जूट को एक नकदी फसलों में गिना जाता है.उन्नत किस्में जूट की फसल से अधिक उत्पादन लेने के लिए उस की उन्नत प्रजातियों का चयन किया जाना जरूरी हो जाता है. जूट की 2 किस्में प्रचलित हैं, जिस में अलगअलग प्रजातियां बोए जाने के लिए उपयोग में लाई जाती हैं. जूट की पहली किस्म को कैपसुलेरिस के नाम से जाना जाता है. इसे सफेद जूट या ककिया बंबई जूट के नाम से भी जाना जाता है. इस की पत्तियां चखने पर स्वाद में कड़वी होती हैं. इस किस्म की प्रजातियों को अगेती फसल के रूप में बोया जाता है. इस की जेआरसी-321 प्रजाति अधिक उत्पादन देने वाली मानी जाती है. इस प्रजाति की फसल जल्दी पक कर तैयार होती है. वहीं दूसरी प्रजाति जेआरसी-212 को देर से यानी मार्च से मई के महीने में बो कर कर के जुलाईअगस्त माह तक काटा जाता है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT