पिछले 6-7 सालों में देश का मीडिया कुछ घोषित, कुछ अघोषित और कुछ घोषित सेंसरशिप में जिआ है. इस का नतीजा अब भारतीय जनता पार्टी देख रही है. पश्चिमी बंगाल और 2 दूसरे राज्यों में भाजपा की करारी हार की वजह यही है कि मीडिया जो नियंत्रित या गोदी मीडिया जो खुद ब खुद मोदी भक्त है सही.....नहीं दे रहा था. अब जब कोविड और चुनाव नतीजों की मार पड़ी है तो पता चला है कि शुतुरमुर्ग की तरह रेत में मुंह छिपाने से सच छिप जाता है, झूठसच में नहीं बदलता.

Tags:
COMMENT