दिल्ली नगर निगम की 5 सीटों के लिए हुए उपचुनाव में से भाजपा एक पर भी जीत ही नहीं सकी. उस का वोट शेयर 35-36 से ले कर 20-21  तक रह गया. अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पाटी ने 4 सीटें जीतीं और 1 सीट कांग्रेस ने. 2019 के चुनावों में इन जगह पर हुए संसदीय चुनावों में भारतीय जनता पार्टी ही बड़े जोरशोर से जीती थी.

अरविंद केजरीवाल बड़े जुझारू लगते हैं और उन के थोड़े से ही युवा समर्थक नई तरह की राजनीति कर रहे हैं जिस में न देश की विदेश नीति है, न शिक्षा नीति है, न धार्मिक नीति है, न जातीय नीति. वे सिर्फ राज्यों के प्रबंध की बात करते हैं. दिल्ली में उन के पास बहुत थोड़ी सी ताकत है क्योंकि कानून ही ऐसा है, असली बागडोर तो केंद्र सरकार के पास है.

ये भी पढ़ें-संपादकीय

फिर भी लोगों को उन पर भरोसा है और तभी लोकसभा चुनावों में करारी हार के बाद अरविंद केजरीवाल को विधानसभा चुनाव में भरपूर सफलता मिली, जो भाजपा को अखरती है. उस से पहले हुए नगर निगमों में मिली जीत से भाजपा को उम्मीद थी कि मंजे हुए, तिलकधारी, भगवा कपड़ों वालों को लोग भरभर कर वोट देंगे. पर ऐसा नहीं हुआ और विपक्ष की राजनीति को कुछ सांसें और मिल गईं.

असल में आज का युवा राजनीति से परेशान है.  आज उस के पास भविष्य में सिर्फ अंधेरा दिख रहा है. नौकरियां हैं नहीं. पढ़ाईलिखाई चौपट है. जहां दुनियाभर में नएनए गैजट आ रहे हैं,  भारतीय युवा पुरानों से काम चला रहे हैं. जो पैसे वाले हैं वे मौज करते नजर आ रहे हैं क्योंकि उन के मातापिता पिछली कमाई के बल पर युवाओं को चुप करा पा रहे हैं. पर जिन के मातापिता के पास पैसा नहीं है, किराए के मकानों में आधीअधूरी नौकरियों में काम करते हैं, वे घुट रहे हैं.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT