कहते हैं, जब धर्म अपना कुरूप चेहरा दिखाता है तो समाज में ऐसीऐसी अमानवीय घटनाएं घटती हैं कि एकबारगी इंसानियत भी शर्मसार हो जाए.

धर्म और अंधविश्वास सिक्के के ही दो पहलू हैं. एक समाज में भय का माहौल पैदा करता है, दूसरा व्यक्ति और समाज को पीछे धकेलता है.

बिहार के मुजफ्फरपुर में एक ऐसी ही घटना घटी है जिस ने न सिर्फ सभ्य समाज के मुंह पर तमाचा जङा है, यह यकीन दिला दिया कि इंसान चाहे 21वीं सदी में पहुंच गया हो, वैज्ञानिक जीतोङ मेहनत कर देश और समाज के लिए नएनए आविष्कार कर रहे हों, मगर वहीं कुछ ऐसे भी लोग हैं जो आज भी धर्म और अंधविश्वास की जंजीरों में जकङे हुए उन्हें मुंह चिढ़ा रहे हैं.

Digital Plans
Print + Digital Plans
Tags:
COMMENT