लेखक- राजेश चौरसिया

  • बुंदेलखंड में आज़ भी जारी है सामंतवाद और दबंगों का कहर..
  • छतरपुर में दलित परिवार की आबरू लूटने का प्रयास कर की मार-पीट..
  • शिकायत के बाबजूद नहीं किया गिरफ्तार और अब जान से मारने की धमकी..
  • पीड़ित परिवार बच्चों सहित पहुंचा SP आफ़िस डाला डेरा..

आज़ादी के दशकों गुज़र जाने के बाद भी बुंदेलखंड में सामंतवाद और दबंगों कहर अनवरत जारी है. कई सरकारें और जनप्रतिनिधि आए-गए-चले-गए पर हालात ना बदले बल्कि और भी बद से बदतर हो चले हैं. ग्रामीण अंचलों में आज भी दलित और पिछड़े समुदाय सामंतवाद और दबंगों की जूती माने जाते हैं और यहां इन्हें इनके ही हिसाब से रहना-चलना पड़ता है.

Tags:
COMMENT