अशोक यादव की हिंदी के अलावा अंगरेजी पर भी अच्छी पकड़ थी. वह फर्राटेदार अंगरेजी तो बोलता ही था, उसे कंप्यूटर का भी अच्छा ज्ञान था. फुरसत में वह सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक पर नए मित्र बनाता और उन से चैटिंग करता था. जो युवकयुवतियां मन को भाते, उन से वह मोबाइल फोन के नंबर दे ले कर बातें करता रहता था.

चैटिंग के दौरान ही फेसबुक पर अशोक उर्फ जग्गा का परिचय स्वीटी उर्फ प्रतिमा चौहान से हुआ. अशोक ने उस की प्रोफाइल देखी तो पता चला कि उस की उम्र 29 साल है और वह मऊ जिले के थाना सराय लखंसी के गांव अलीनगर की चौहान बस्ती की रहने वाली है.

उस के पिता रामप्यारे चौहान किसान थे. प्रतिमा पहसा स्थित कालेज में बीटीसी की छात्रा थी. स्वीटी पढ़ीलिखी युवती थी. प्रोफाइल देख कर अशोक का रुझान उस की ओर हो गया.

फेसबुक के माध्यम से स्वीटी अशोक के संपर्क में आ गई. दोनों अकसर चैटिंग कर लिया करते थे. दोनों ने आपस में मोबाइल नंबर भी शेयर कर लिए थे. धीरेधीरे दोनों दिल खोल कर बातें करने लगे. स्वीटी अशोक के परिवार के बारे में अधिक जानकारी जुटाने का प्रयत्न करती थी. जाहिर था कि वह अशोक से प्रभावित थी, इसीलिए उस के बारे में खोजबीन करती थी.

एक दिन बातचीत के दौरान स्वीटी ने पूछा, ‘‘अशोक, मैं ने तुम्हारे परिवार के बारे में बहुत कुछ जान लिया है लेकिन यह कभी नहीं पूछा कि तुम करते क्या हो?’’

अशोक फीकी हंसी हंसा, ‘‘मुझे झूठ बोलने की आदत नहीं है, इसलिए सच बताऊंगा. सच यह है कि मैं बेरोजगार हूं.’’

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT