संजय को विदेश जाना था, जाने के लिए वह घर से निकला भी था. लेकिन विदेश जाने के बजाए उस की लाश नदी में तैरते दिखी. तो क्या संजय के साथ यह सब उस के अपनों ने ही...

रात्रि गश्त के बाद राजनगर थाने के इंचार्ज राजेश कदम सुबह 5 बजे अपने साथियों के साथ गपशप कर रहे थे. ‘चलो आज की रात तो ठीक कट गई. अब घर जा कर थोड़ा आराम करेंगे.’ राजेश कदम इत्मीनान की सांस लेते हुए कह रहे थे.

Tags:
COMMENT