देश के होनहार सटोरियों के आगे अच्छेअच्छे राजनीतिक विश्लेषक पानी भरते नजर आते हैं. उन के खोले भाव की रिपोर्टिंग करते कई पत्रकार बताते हैं कि हवा का रुख दरअसल किस दिशा की तरफ है. 5 राज्यों खासतौर से उत्तर प्रदेश के नतीजों को ले कर इस बार सट्टा बाजार में सन्नाटा सा छाया हुआ है.

देश के प्रमुख सट्टा सैंटर इंदौर के सैसटोरियों की मानें तो इस की अहम वजह नोटबंदी को ले कर जनता का मूड न समझ आना है. इसलिए अगरमगर लगा कर भाव खोलने पड़ रहे हैं. नतीजतन,  आम लोग सट्टे पर तवज्जुह नहीं दे रहे और हर चुनाव में औंधेमुंह गिरने वाले चैनलों के सर्वेक्षणों को आधार नहीं मान रहे. अब हो यह रहा है कि पहले दिन सपाकांग्रेस गठबंधन पर ज्यादा दांव लगता है तो दूसरे दिन भाजपा का भाव बढ़ जाता है और तीसरे ही दिन बसपा छिपी रुस्तम नजर आने लगती है. अब तो सट्टा इसी बात पर लगने लगा है कि मतदान के बाद सट्टा बाजार किसे भाव देगा.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
COMMENT