फिल्मकार सचिन गुप्ता अपनी चाइल्ड ट्रैफीकिंग पर आधारित फिल्म ‘‘पाखी’’ को ‘केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड’’ द्वारा प्रमाण पत्र देने से इंकार किए जाने से काफी निराश हैं. इसी के चलते अब फिल्म ‘पाखी’ दस अगस्त को सिनेमाघरों में नहीं पहुंच पाएगी. सूत्रों के अनुसार फिल्म ‘‘पाखी’ ’को ‘केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड’’ की परीक्षण समिति ने देखने के बाद टिप्पणी की है-‘‘यह फिल्म बाल तस्करी और यौन शोषण के इर्द गिर्द घूमती है. पर फिल्म में इस विषय को बहुत ही अपरिष्कृत तरीके से दिखाया गया है.

COMMENT