भारत और पाकिस्तान में एक ही फिल्मी जबान बोली जाती है और दर्शक भी दोनों तरफ का सिनेमा पसंद करते हैं. लेकिन आपसी संबंधों की कडवाहट के चलते कई भारतीय फिल्में वहां बैन हो जाती हैं जबकि मुंबई से कुछ पाकिस्तानी कलाकारों को कड़वे अनुभव से गुजरना पड़ा. बावजूद इसके दोनों देशों एक फिल्म मेकर्स आपसी संबंधों को सुधारने के क्रम अपनी तरफ से छोटी मोटी पहल करते रहते हैं.

Tags:
COMMENT