फिल्म द लास्ट आप्शन नक्सलाइटकी निर्देशिका पायल कश्यप ने कहा कि आजादी के बाद नक्सलवाद देश के सामने सबसे बड़ी आंतरिक चुनौती बन कर उभरी है. 23 मई 1967 को बंगाल के एक छोटे से गांव नक्सलबाड़ी से निकला यह आंदोलन आज केरल, कर्नाटक, आन्ध्र प्रदेश, उड़ीसा, बंगाल, झारखंड, छत्तीसगढ़, बिहार होते नेपाल तक फैल गया. भारतीय राजनीतिक घटना प्रवाह में ऐसा पहली बार हुआ है जब एक स्थान विशेष (नक्सलबाड़ी) से शुरु हुई परिघटना ने वाद का रूप ले लिया और इसके फौलोवर का कहना है सत्ता बंदूक की नली से निकलती है. लेकिन मेरी फिल्म द लास्ट आप्शन नक्सलाइट के माध्यम से यह बतलाने की कोशिश की गई है कि बंदूक की नली से सिर्फ और सिर्फ आतंक ही निकल सकता है.

पायल कश्यप ने कहा कि क्या हिंसा के रास्ते परिवर्तन संभव है? कतई नहीं यह कहानी इसी की वकालत करती है और बतलाने की कोशिश करती है कि बंदूक से समस्या का समाधान कभी नहीं हो सकता. हमारा अंतिम विकल्प स्टेट (राजसत्ता) के खिलाफ बंदूक उठा नक्सली बन जंगल चला जाना नहीं वरन उसके भी आगे एक राह है और वह है शांति की राह.

फिल्म के माध्यम से समाज सुधार की बात पर उन्होंने कहा कि देखिये मेरा काम कहानी को पर्दे पर उतारना है, साथ ही मेरी फिल्मों का एक अहम हिस्सा होता है मनोरंजन. मैं कहानी के माध्यम से कुछ कहना चाहती हूं. जिस कहानी का विषय दिल को छू जाता है उस कहानी को सेल्यूलायड पर गढ़ने की तैयारी में मैं जुट जाती हूं. और रही बात समाज सेवा की तो मैं भी समाज का एक हिस्सा हूं. सो मेरी भी यह जिम्मेवारी बनती है देश और समाज के लिए कुछ न कुछ करूं. मनोरंजन तो फिल्म देखने के वक्त तक होता है, जबकि संदेश आप अपने दिमाग के साथ घर तक ले जा सकते हैं और इसी संदेश का समाज पर प्रतीकात्मक प्रभाव पड़ता है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
COMMENT