यह अच्छी बात है कि आजकल एक्सपैरिमैंटल फिल्में बनने लगी हैं. ‘फाइंडिंग फैनी’ का सब्जैक्ट आम फिल्मों से हट कर है. यह एक क्लासी फिल्म है. दर्शक इसे देख कर खूब ऐंजौय करेंगे. फाइंडिंग फैनी एक हलकीफुलकी दिलचस्प फिल्म है जो आज की भागमभाग वाली जिंदगी से परेशान लोगों को सुकून देती प्रतीत होती है. फिल्म जिंदगी जीने का तरीका बताती है. फिल्म में सिर्फ 5 किरदार हैं, पांचों गोआ के एक गांव में रहते हैं, पांचों में आपस में प्यार है. पांचों एकदूसरे के सुखदुख को समझते हैं. रोजलीना (डिंपल कापडि़या) विधवा है (यह बाद में पता चलता है कि उस का पति भाग गया था और वह विधवाओं वाला जीवन जी रही थी) तो भी उसे कोई गम नहीं. उस की नईनवेली बहू एंजेलीना (दीपिका पादुकोण) भी शादी वाले दिन ही विधवा हो गई थी. उस के अंदर भी उमंग है, प्यार है, खिलखिलाहट है. फ्रेडी (नसीरुद्दीन शाह) 45 सालों से अपने प्यार की बाट जोह रहा है, मगर फिर भी जिंदादिल है. निर्देशक होमी अदजानिया ने इन पांचों कलाकारों की जिंदगी को अलगअलग नजरिए से दिखा कर सभी को अपनीअपनी बात कहने का मौका दिया है. यह फिल्म सिर्फ फैनी को ही ढूंढ़ने की नहीं है बल्कि एकदूसरे को ढूंढ़ने, उन्हें समझने की है.

होमी ने खुद ही इस फिल्म की कहानी भी लिखी है. उस ने इस फिल्म में इन पांचों कलाकारों को ले कर एक रोड जर्नी दिखाई है. इस जर्नी को ये पांचों कलाकार खूब ऐंजौय करते हैं. इन कलाकारों को ऐंजौय करता देख दर्शकों के चेहरों पर स्वत: ही मुसकान बिखर जाती है.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

डिजिटल

(1 साल)
USD10
सब्सक्राइब करें

डिजिटल + 24 प्रिंट मैगजीन

(1 साल)
USD79
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...