गूगल मैप ने नई दिल्ली में टू-व्हीलर मोड की शुरुआत की हैं. अभी तक भारत में गूगल मैप से ट्रैफिक का स्टेटस देखने के लिए वो कार में कितना समय लगेगा इसी की जानकारी देता था.

लेकिन अब गूगल मैप ऐप में बाइकर्स भी अपने लिए बेस्ट रूट का चुनाव कर सकते हैं. गूगल ने ऐप में अब नेविगेशन रूट और बेहतर वौयस असिस्टेंट फीचर जोड़ा है.

गूगल मैप्स में आया ट्रेवल मोड

गूगल के नेक्स्ट बिलियन यूजर्स टीम के वाइस प्रेसिडेंट सेनगुप्ता के अनुसार- गूगल मैप अपनी ऐप में नया ट्रेवल मोड लेकर आया है. अब तक इसके अंतर्गत ड्राइव, ट्रैन, बस और पैदल के विकल्प थे. इसमें अब भारत का पहला फीचर टू-व्हीलर मोड जोड़ दिया गया है. भारत विश्व का सबसे बड़ा टू-व्हीलर बाजार है. यहां लाखों की संख्या में लोग मोटरसाइकिल और स्कूटर चलाते हैं. नेविगेशन को लेकर टू-व्हीलर चालकों की जरुरत भी अलग होती है.

क्या है इस फीचर में खास

  • मैप में टू-व्हीलर मोड चालकों को वो रास्ता दिखाएगा जहां कार और ट्रक नहीं जा सकते. साथ ही टू-व्हीलर चालकों के लिए खास ट्रैफिक और गंतव्य पर पहुंचने का समय भी बताएगा.
  • काफी भारतीय नेविगेशन के लिए लोकल लैंडमार्क पर निर्भर होते हैं. ऐप का टू-व्हीलर मोड रूट में आने वाले बड़े लैंडमार्क के बारे में भी जानकारी देगा.
  • आने वाले कुछ महीनों में टू-व्हीलर मोड को अन्य राष्ट्रों के लिए भी उपलब्ध कराया जाएगा.

इससे पहले गूगल ने फाइल्स गो ऐप लौंच की थी जो यूजर्स के लिये काफी मददगार साबित हो सकती है. इस ऐप के जरिए यूजर्स अपने डाटा को स्टोर और वायरलेस फाइल ट्रांसफर कर पाएंगे. इसे किसी भी थर्ड पार्टी वेबसाइट जैसे APK Mirror के जरिए डाउनलोड किया जा सकता है.

फाइल्स गो ऐप के फीचर्स

उपरोक्त दो टैब्स के अलावा इसमें फाइल ट्रांसफर फीचर दिया गया है. यह फाइल्स को वायरलेस तरीके से सेंड और रीसीव करने में मदद करता है. इसके लिए फोन के ब्लूटूथ की मदद ली जाती है. इसके लिए एक्टिव डाटा कनेक्शन की जरुरत नहीं है. Superbeam और Pushbullet जैसी फाइल शेयरिंग ऐप्स की ही तरह इसमें भी यूजर्स बड़ी फाइल्स को तेजी से सेंड और रीसीव कर सकते हैं.

Tags: