जैकी श्राफ के बेटे और अपने करियर की पहली फिल्म‘‘हीरोपंती’’ से चर्चा में आए टाइगर श्राफ इन दिनों अपने करियर की दूसरी फिल्म ‘‘बागी’’को लेकर चर्चा में है. फिल्म ‘‘बागी’’में केरला की मूल मार्शल आर्ट फार्म केरला पट्टू को चित्रित किया गया है.इस फिल्म के लिए टाइगर श्राफ ने षिफूजी गुरू से केरला पट्टू मार्शल आर्ट फार्म को खास तौर पर सीखा. जबकि वह बचपन से ही मार्शल आर्ट सीखते आ रहे हैं. वास्तव में टाइगर श्राफ जब चार साल के थे, तब उन्होने पहली बार ब्रूसली की फिल्म ‘एंटर द ड्रैगन’’ देखी थी. इस फिल्म से ही उनकी जिंदगी बदली थी. जबकि फिल्म ‘‘बागी’’ में अभिनय करने के बाद  टाइगर श्राफ को अहसास हुआ कि मार्शल आर्ट तो हर नारी के उत्थान के लिए अति आवश्यक है.इसलिए अब टाइगर श्राफ लड़कियो के लिए मार्शल आर्ट का स्कूल खोलने जा रहे हैं.
इस बारे में जब हमारी टाइगर श्राफ से बात हुई, तो टाइगर श्राफ ने कहा- ‘‘मैं मार्शल आर्ट का स्कूल खोलने की योजना पर काम कर रहा हॅू. जहाॅ मैं हर लड़की व नारी को मुफ्त में मार्शल आर्ट की ट्रेनिंग देना चाहता हॅूं. इस स्कूल को लेकर मैने बहुत बड़ी योजना बनायी है.’’
जब हमने टाइगर श्राफ का ध्यान इस ओर दिलाया कि लड़कियों को मार्शल आर्ट सिखाने का काम तो अभिनेता अक्षय कुमार भी कर रहे हैं. तो क्या वह अक्षय कुमार के साथ मिलकर इस स्कूल के काम को अंजाम देने वाले हैं?

इस पर टाइगर श्राफ कहते हैं-‘‘नहीं! अक्षय कुमार जी अपने हिसाब से इस काम को अंजाम दे रहे है. मेरी योजना काफी अलग तरह की है. मैं स्कूल की तरह इसे चलाना चाहता हूँ. मेरी राय में मार्शल आर्ट से नारी सशक्तिकरण होता है.’’

मार्शल आर्ट का नारी सशक्तिकरण से क्या संबंध है? इस पर टाइगर श्राफ ने कहा-‘‘आज की तारीख में नारीयों पर अत्याचार, शरीरिक शोषण, बलात्कार की घटनाएं बढ़ रही है. ऐसे में मार्शल आर्ट नारियों में एक नई उम्मीद की किरण है. मार्शल आर्ट सीखने के बाद हर लड़की आत्मरक्षा कर सकती है.इससे नारीसशक्तीकरण भी होगा.’’
 

COMMENT