सरिता विशेष

दक्षिण की तमिल व तेलगू फिल्मों की सुपरस्टार काजल अग्रवाल की ‘सिंघम’ व ‘स्पेशल 26’ के बाद तीसरी हिंदी फिल्म ‘‘दो लफ्जों की कहानी’’ दस जून को प्रदर्शित होने वाली है. लेकिन ‘‘दो लफ्जों की कहानी’’ ने काजल अग्रवाल को बहुत कुछ सिखाने के साथ साथ उनकी निजी जिंदगी को काफी हद तक बदल दिया है.

खुद काजल अग्रवाल बताती हैं-‘‘फिल्म ‘दो लफ्जों की कहानी’ ने मेरी जिंदगी पर बहुत असर डाला. इस फिल्म में एक दृष्टिहीन लड़की का किरदार निभाने के बाद मेरी जिंदगी में काफी बदलाव आया है. इस फिल्म ने मुझे इंसानियत के बारे में सिखाया. मुझे यह समझ में आया कि जो लोग हमारे जैसे नही हैं, उन्हें कमजोर समझना हमारी भूल है. अब मैं अपंग या दृष्टिहीन लोगों के साथ समानता के स्तर पर व्यवहार करने लगी हॅूं.’’