जिस मनुवाद और सवर्णवाद को कोसते-कोसते स्वामी प्रसाद मौर्य ने बसपा में अपने कद को बड़ा बनाया था, भाजपा में शामिल होने के बाद वह अपनी पुरानी पहचान कैसे मिटा पायेंगे. स्वामी प्रसाद ने मूर्तिपूजा और पूजा पद्वित को लेकर तमाम तरह की बातें कहीं थी, जो भाजपा के लोग न तब हजम कर पाये थे और न अब हजम कर पायेंगे. ऐसे में स्वामी प्रसाद मौर्य भाजपा में कितना स्वीकार होंगे, सहज रूप से समझा जा सकता है.

राजनीति में विचारों का अपना अलग महत्व होता है. इन विचारों की वजह से नेता की नीति तय होती है. उसकी नीति से ही जनाधार बढ़ता है. दल बदल और नीतियों से समझौता करना दोनों अलग विषय होते हैं. भाजपा ने लोकसभा चुनाव के समय कई दलित नेताओं को पार्टी में शामिल किया था. समय के साथ यह नेता ससंद में जरूर पहुंच गये, कुछ मंत्री भी बन गये, पर असल में वह अपनी जमीन खो चुके हैं. आज जब दलित मुद्दों पर वह बोलते हैं तो उनकी बेचारगी देखने वाली होती है.

स्वामी प्रसाद मौर्य बसपा में नंबर 2 के नेता थे. बसपा प्रमुख मायावती क्या चाहती थी और क्या सोचती थी यह वह जानते थे. दलित मुद्दों को लेकर विधानसभा में स्वामी प्रसाद मौर्य मुखर रहते थे. अकेले स्वामी प्रसाद ही ऐसे थे जिनसे समाजवादी पार्टी और भाजपा दोनो घबराती थी. असल में राजनीति में मुद्दे अब मायने नहीं रखते. नेता अपने कद को बढ़ाना चाहते हैं. नेताओं की इच्छा होती है कि वह अपने घर परिवार को भी राजनीति में स्थापित कर ले. ऐसे में वह अपने लाभ के हिसाब से फैसले लेते हैं. कई बार हवा का रूख जब सही होता है, तो सही होता है, तो लाभ मिलता है और कई बार हवा का रूख भांपने में जब कठिनाई होती है तो खेल बिगड़ भी जाता है.

2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा के केसरिया रंग में डूब कर कई दलित नेता चुनाव जीत गये थे. अब उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनावों में पहले जैसी बात नहीं है. ऐसे में केसरिया चोला पहनने वाले नीले रंग में रगे स्वामी प्रसाद मौर्य और जुगुल किशोर जैसे बसपाई नेताओं का क्या होगा कुछ कहा नहीं जा सकता है? यह तय है कि भाजपा में इनको वह स्थान नहीं मिलना जो बसपा में मिलता था. कई दलित नेता जो भाजपा में शामिल हुये वह भाजपा में घुलमिल नहीं पाये है. वह अब खुलकर बोल भी नहीं पाते. ऐसे नेता किसी बड़े भाजपा नेता का पल्लू पकडे ही नजर आते हैं. यह सच है कि राजनीति में कोई स्थाई दोस्त या दुश्मन नहीं होता, पर विचारों को छोड़ पाना सरल नहीं होता. विचारों को छोड़ने का नुकसान नेता को होता है चाहे वह मायावती हों या स्वामी प्रसाद मौर्य. अब देखना यह है कि रंग बदल कर कितना चुनावी रंग जमा पाते है स्वामी प्रसाद मौर्य.