उत्तर प्रदेश में भाजपा मुसलिम नीति को लेकर दोराहे पर है. एक तरफ भाजपा यह साबित करना चाहती है कि तीन तलाक को लेकर मुसलिम समुदाय में उसकी पैठ बढ़ी है, दूसरी तरफ वह यह भी दिखाना चाहती है कि मुसलिम बिरादरी से उसकी दूरी कायम है. उत्तर प्रदेश में भाजपा के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ईद के मौके पर मुख्यमंत्री आवास पर ईद से जुड़ा कोई कार्यक्रम नहीं किया. इससे यह संदेश गया कि भाजपा ऐसे आयोजनों के खिलाफ है. दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाइक ने राजभवन में ईद से जुड़ा आयोजन किया.

ईद के दिन मुख्यमंत्री लखनऊ की ईदगाह जाकर ईद की शुभकामना देते लोगों से गले मिलते हैं. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ईदगाह भले नहीं गये पर उप मुख्यमंत्री डाक्टर दिनेश शर्मा और राज्यपाल राम नाइक दोनों ही ईदगाह गये लोगों से मिले. मुसलिम नीति को लेकर भाजपा का उहापोह विधानसभा चुनावों के समय से चल रहा है. विधानसभा चुनावों में भाजपा ने एक भी मुसलिम को चुनाव लड़ने का टिकट नहीं दिया. जब सरकार बनाने का नम्बर आया तो भाजपा ने मोहसिन रजा को मंत्री बना दिया.

राजनीति के जानकारों का कहना है कि भाजपा मुसलिम नीति को लेकर दोराहे पर खड़ी है, वह मुसलिम से दूरी बनाकर अपने परंपरागत वोट बैंक हिन्दुओं को खुश रखना चाहती है. दूसरी तरफ समाज को यह संदेश देना चाहती है कि वह सबका साथ सबका विकास की नीति पर चल रही है. ऐसे में एक तरफ योगी आदित्यनाथ के जरीये ईदगाह न जाकर एक संदेश देती है तो दूसरी ओर राज्यपाल राम नाइक और उप मुख्यमंत्री और डाक्टर दिनेश शर्मा ईदगाह जाकर लखनऊ की गंगा जमुनी सभ्यता की बात करते हैं.

भाजपा सीधे तौर पर अपने हिन्दु वोट बैंक और मुसलिम वर्ग के बीच संतुलन साधने का काम कर रही है. ऐसे में वह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के जरीये हिन्दूवर्ग को खुश करने की कोशिश में है और डाक्टर दिनेश शर्मा के जरीये वह मुसलिम बिरादरी को खुश करना चाहती है. यह बातें धीरे धीरे सबकी समझ में आने लगी हैं. ऐसे में अब भाजपा की दोहरी नीति खुल कर सामने आ रही है. जिसका प्रभाव प्रदेश की विकास और कानून व्यवस्था पर पड़ रहा है.

जिस समय प्रदेश सरकार अपने 100 दिन पूरे होने का जश्न मना रही थी उस समय ही रायबरेली में चुनावी संघर्ष में 5 लोगों को जला कर मार दिया गया. राजधानी लखनऊ में लडकी से सरेराह बलात्कार की कोशिश असफल रहने के बाद उसकी हत्या कर दी गई. छोटी बच्ची के साथ हत्या की घटना ने पूरे प्रदेश को शर्मसार कर दिया. बरेली में हिन्दू युवावहिनी के कार्यकर्ता थाने में घुस कर बवाल करने लगे. पुलिस पर हमला किया. जिस दिन सरकार के 100 दिन पूरे हुये उस दिन की यह घटनाये हैं. प्रदेश में बहुत सारे दावों के बाद भी कानून व्यवस्था के हालात नहीं सुधरे हैं. भाजपा अपना कोई प्रभाव छोड़ नहीं पा रही है. केवल धर्म के नाम पर वोटबैंक के सहारे जीत हासिल करना संभव नहीं है.         

COMMENT