सरिता विशेष

VIDEO : ये नया हेयरस्टाइल ट्राई किया आपने 

ऐसे ही वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक कर SUBSCRIBE करें गृहशोभा का YouTube चैनल.

अपने देश में जब भी किसी जोड़े के बच्चे नहीं होते तो दोष आमतौर पर पत्नी पर ही मढ़ दिया जाता है. जब परिवार वाले जोर डालते हैं और टैस्ट होते हैं तो पता चलता है कि पति में स्पर्म काउंट कम है, ईश्वर की इच्छा नहीं जैसा पुजारीमुल्ला कहते हैं. यह खाने के साथ सीधा जुड़ा है. डाइट का स्पर्म काउंट से सीधा संबंध है. खाने में अधिक मीट और दूध के प्रोडक्ट केवल कमर को ही मोटा और शिथिल नहीं करते उस के जरा नीचे भी भारी नुकसान पहुंचाते हैं. स्पर्म काउंट, साइज और घनत्व में परिवर्तन हो जाता है, नैगेटिव में.

स्पर्म काउंट में कमी

डाक्टर अकसर स्मोकिंग बंद करने, ढीले अंडरवियर पहनने, लैपटौप को लैप्स पर नहीं मेज पर रखने और कम बार सैक्स करने की सलाह देते हैं पर यह नाकाफी है. असल में गीगो सिद्घांत कहता है गारबेज इन, गारबेज आउट. गारबेज यानी बेकार का खाया. मैंस हैल्थ क्लीनिक,

वेक फौरैस्ट यूनिवर्सिटी के डा. रयान  टैरलेस्की का कहना है, ‘‘कई दशकों से हम देख रहे हैं कि पुरुषों में स्पर्म काउंट कम हो रहा है पर पुरुषों को यह नहीं बताया जा रहा है कि

वे क्या खा रहे हैं, जिस का सीधा संबंध स्पर्म काउंट से है.’’

खानपान में छिपा है राज

2006 में यूनिवर्सिटी औफ रौचेस्टर में प्रस्तुत किए गए एक शोधपत्र में साफ कहा गया है कि निस्संतान पुरुषों के खाने में फलों और सब्जियों की संख्या काफी कम होती है. 2011 के ब्राजील के एक शोध से पता चला है कि जो लोग गेहूं, बाजरा आदि ज्यादा खाते हैं उन का स्पर्म काउंट ज्यादा होता है.

एक और अध्ययन से पता चला है कि पनीर, चीज और दूसरी दूध से बनी चीजें खाने से स्पर्म काउंट घट जाता है. स्पर्म डोनर्स से स्पर्म एकत्र करने वाली संस्थाओं ने भी पाया है कि जो लोग डेरी प्रोडक्ट लेते हैं उन का स्पर्म काउंट 46% कम होता है.

डेरी प्रोडक्ट्स किसे फायदेमंद

डेनमार्क की जन्मदर 221 देशों में 185वें स्थान पर है पर यह वहां की जनता के जनसंख्या नियंत्रण करने की इच्छा के कारण नहीं, उन के खाने में डेरी प्रोडक्टों की भरमार के कारण हो रहा है. अमेरिकन जरनल औफ क्लीनिकल मैडिसिन ने इस बात की पुष्टि की है. मीट और चीज खाने वालों का स्पर्म काउंट सामान्य से 41% कम पाया गया है.

औरतों में भी पौधों से उगे खाने को डाइट में बढ़ाने और सैचुरेटड फैट जो मीट या दूध से मिलता है, कम करने से संतानोत्पत्ति की संभावनाएं बढ़ती हैं. अधिक मीट से सफल गर्भ ठहरने के चांस कम हो जाते हैं.

कैसे बढ़ाएं स्पर्म काउंट

शराब से भी स्पर्म काउंट कम हो जाता है. जिन फलों में ऐंटीऔक्सीडैंट होते हैं उन का जूस भी स्पर्म काउंट बढ़ाने में सहायक होता है. डेनमार्क की शोध संस्था ने पाया है कि थोड़ी मात्रा में अलकोहल लेने वालों में स्पर्म काउंट कम हो जाता है. तो क्या समझे? यही न कि अपना स्पर्म काउंट बढ़ाना है तो फल, सब्जियां, दालें, हरे पत्तों का सलाद खाइए और मीट व डेरी प्रोडक्ट्स छोड़ दें.