किसी खास अवसर पर अपने लुक में और भी निखार लाने के लिए पेश हैं, कुछ ब्यूटी टिप्स, जिन्हें आजमा कर आप भी बन सकती हैं ब्यूटी क्वीन:

प्री मेकअप टिप्स: उम्र चाहे जो भी हो, सीटीएमपी नामक 4 स्टैप्स हर हाल में मेकअप से पहले जरूरी हैं. एक उम्र के बाद त्वचा अधिकतर ड्राई हो जाती है, इसलिए क्लींजिंग के लिए केवल नरिशिंग क्लींजिंग मिल्क या फिर क्लींजिंग क्रीम का इस्तेमाल करें. यह त्वचा को रूखा किए बिना डीप क्लीन करेगी. बढ़ती उम्र की निशानियों में बेहद कौमन समस्या है ओपन पोर्स की. समय के साथ पोर्स बढ़ जाते हैं, जिस के चलते स्किन पर ऐजिंग नजर आने लगती है. इन पोर्स को मिनिमाइज करने के लिए क्लींजिंग के बाद टोनिंग जरूर करें. मौइश्चर की कमी से चेहरे पर रिंकल्स दिखाई दे सकती हैं, इसलिए स्किन पर मौइश्चराइजर जरूर लगाएं. सूर्य की हानिकारक किरणें न केवल त्वचा को झुलसा देती हैं, बल्कि इन से त्वचा में झुर्रियां, ब्राउन स्पौट्स आदि भी दिखाई देने लगते हैं. इसलिए धूप में निकलने से पहले सनस्क्रीन लगा कर स्किन को इन हानिकारक किरणों से प्रोटैक्ट करें.

फेस मेकअप: मेकअप की परफैक्ट शुरुआत के लिए सब से पहले फेस पर प्राइमर का इस्तेमाल करें. इस के अंदर सिलिकौन होता है, जो चेहरे की फाइन लाइंस व रिंकल्स वाली जगह को भर देता है. चूंकि मेकअप करने के बाद ऐजिंग साइंस ज्यादा दिखाई देते हैं, इसलिए इन्हें मेकअप से पहले फिल करना जरूरी होता है. डीडी यानी डैमेज डिफाइंग क्रीम से चेहरे को स्मूद टैक्स्चर दें. इस क्रीम में शामिल विटामिन और मिनरल्स स्किन को रिंकल्स से बचाते हैं. अगर चेहरे पर मार्क्स या स्कार्स हैं तो उन्हें लिक्विड कंसीलर की मदद से कवर करें और अगर आंखों के नीचे गड्ढे हैं, तो उस जगह पर लाइट डिफ्यूजर पैन का इस्तेमाल करें. यह पैन लाइट को रिफ्लैक्ट करता है, जिस से वह जगह भरी हुई नजर आती है.

आई मेकअप की तरफ आगे बढ़ने से पहले चेहरे पर लूज पाउडर लगा कर फेस मेकअप को फिक्स कर दें. उम्र के इस पड़ाव तक आतेआते चेहरा पहले से पतला हो जाता है. ऐसे में अपने फेस के फीचर्स को हाइड नहीं, बल्कि हाईलाइट करें. इस के लिए चीकबोंस के ऊपर, आईब्रोज के नीचे और ब्रिज औफ द नौज पर हाईलाइटर का इस्तेमाल करें और चीकबोंस पर क्रीम बेस्ड ब्लशऔन ही लगाएं. यह स्किन को हाईड्रेट करेगा साथ ही मेकअप पर ग्लो भी लाएगा.

आई मेकअप: एक उम्र के बाद आईब्रोज झुकने और हलकी होने लगती हैं. ऐसी आंखों को उठाने के लिए आईपैंसिल की मदद से आर्क बना लें. अगर आर्क बना हुआ है, तो उसे पैंसिल से डार्क कर लें. इस से आंखें उठी हुईं और बड़ी नजर आएंगी.

आई मेकअप के लिए शिमर, ग्लिटर और बहुत ज्यादा लाउड शेड्स का इस्तेमाल न करें, क्योंकि इन से रिंकल्स और भी ज्यादा रिफ्लैक्ट होती हैं. आईशैडो के लिए सौफ्ट पेस्टल शेड्स का इस्तेमाल कर सकती हैं. इस के साथ ही आईज के आउटर कौर्नर्स पर डार्क ब्राउन शेड से कंटूरिंग जरूर करें. इस से आंखें डीप सैट और यंग नजर आएंगी.

त्वचा में कुदरती नमी और लचीलेपन में कमी आने के कारण आंखें पहले से थोड़ी छोटी हो जाती हैं. ऐसे में लिक्विड आईलाइनर के बजाय पैंसिल आईलाइनर या फिर आईलैश जौइनर का इस्तेमाल करना ठीक रहता है. आईलाइनर की एक पतली सी लाइन लगा कर स्मज कर लें. ध्यान रखें कि वह ड्रूपिंग न हो, बल्कि उठी हुई हो. इस ऐज में आंखों पर कलर्ड लाइनर लगाने से बचें. आईलैशेज पर वौल्यूमाइजिंग मसकारे का डबल कोट जरूर लगाएं. इस ऐज तक आतेआते लगभग सभी की आंखें छोटी होने लगती हैं, इसलिए वाटरलाइन पर व्हाइट पैंसिल लगाएं, क्योंकि इस से आंखें बड़ी नजर आती हैं.

लिप मेकअप: होंठों पर ब्राइट शेड की लिपस्टिक लगा कर ज्यादा यंग दिख सकती हैं. यदि होंठ पतले हो गए हैं, तो उन्हें ब्राइट शेड के लिपलाइनर से आउटलाइन करें और लिप प्लंपर का इस्तेमाल करें. ऐसा करने से लिप्स पाउटी नजर आएंगे. इस के बाद लिपलाइनर से मैच करती ब्राइट शेड की लिपस्टिक से लिप्स को फिल करें.

– भारती तनेजा, डाइरैक्टर औफ एल्प्स ब्यूटी क्लीनिक ऐंड ऐकैडमी

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं