सरिता विशेष

गरीब परिवार में जनमी सिमरन शेख ने 9 साल की कम उम्र में ही डांस करना शुरू किया था, ताकि स्टेज शो कर के घर की जरूरतों को पूरा किया  जा सके. उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले की रहने वाली सिमरन शेख का परिवार बाद में मुंबई में रहने लगा था. उन्होंने न केवल डांस के जरीए अपने घर की माली मदद की, बल्कि अपनी पढ़ाई भी जारी रखी.

19 साल की उम्र में सिमरन शेख ने भोजपुरी, हिंदी और मराठी फिल्मों में अपनी एक लग पहचान बना ली है. उन्होंने 2 भोजपुरी फिल्मों के साथ कई वीडियो अलबम और मराठी फिल्में भी की हैं. वे विदेशों में भी अपने डांस शो कर चुकी हैं. पेश हैं, सिमरन शेख के साथ की गई बातचीत के खास अंश:

आप के लिए 9 साल की कम उम्र में ही डांस शो करना क्यों जरूरी हो गया था?

परिवार में कुछ हालात ऐसे बन गए थे कि जिंदगी मुश्किल हो गई. गरीबी आ गई. ऐसा लगा कि पढ़ाई और जिंदगी दोनों रुक जाएंगी. स्टेज पर डांस करना ही सब से आसान काम दिखाई दे रहा था. इस में रोज पैसा मिल जाता था.मुंबई में ऐसे बहुत सारे स्टेज शो होते थे, जहां बच्चों को भी डांस करने को मिल जाता था. यहीं काम शुरू हो गया. इस के सहारे जिंदगी की मुश्किलें कम होने लगीं. डांस शो करना कैरियर बन गया. उम्र के साथ डांस बढ़ता गया. साथ ही साथ मैं ऐंकरिंग भी करने लगी. मेरी आवाज अच्छी है, तो गाने भी गाने लगी. डांस से ज्यादा पैसा ऐंकरिंग से मिलने लगा, तो इस काम को ज्यादा करने लगी.

डांसर के रूप में आप को कभी ऐसे हालात से रूबरू होना पड़ा, जो पसंद न आए हों?

मैं ने बचपन से डांस करना शुरू कर दिया था. मुझे देखने वाले की नजर से ही पता चल जाता था कि वह क्या सोच रहा है. ऐसे में मैं उस से दूरी बना लेती थी. हर जगह अच्छे लोग भी होते हैं. दर्शक कई बार ऐसे हालात बना देते हैं, जो डांसर को पसंद नहीं आते, पर वह उन हालात को संभाल लेता है.

ऐक्टिंग के क्षेत्र में आप ने कैसे कदम रखा?

जब मैं ने डांस के साथसाथ बतौर ऐंकर और सिंगर के रूप में काम करना शुरू किया, तो लोगों ने कहा कि मैं बहुत सारे काम कर सकती हूं. मुझे लगा कि ऐक्टिंग भी की जा सकती है. मेरे कुछ जानकार थे. उन की तरफ से फिल्मों में काम करने के औफर आए. वे सब भोजपुरी फिल्में थीं. मेरी अपनी बोली भोजपुरी है, इसलिए मैं ने फिल्में कीं और वीडियो अलबम भी किए. अब मैं मराठी फिल्म भी कर रही हूं.

आप किस क्षेत्र को ज्यादा अच्छा मानती हैं?

मुझे अच्छी ऐक्टिंग पसंद है. मैं ऐक्टर बनना चाहती हूं. पर मैं सभी काम करना पसंद करती हूं. सिंगर और परफौर्मर के रूप में मेरी अच्छी इमेज है. मैं ब्रिटेन, मलयेशिया, इंडोनेशिया, दुबई, मौरीशस और बैंकौक में शो कर चुकी हूं.मेरी 2 भोजपुरी फिल्में ‘नजरिया काहके लडावल’ और ‘सजनवा बड़ा दिलवाला’ लोगों को पसंद आईं. अभी कुछ और फिल्मों के साथ मराठी फिल्म भी शूट हो रही है.

आप की जिंदगी बहुत जद्दोजेहद से भरी रही है. आप रिश्तों को कैसे देखती हैं?

जिंदगी की भागदौड़ में रिश्ते कई बार बहुत पीछे छूट जाते हैं. परिवार के साथ अब दोस्तों के बीच भी रिश्ते बनते हैं. हर जगह अच्छे लोग भी होते हैं, जो सही सलाह देते हैं, मदद करते हैं. जिंदगी की जद्दोजेहद जीने की कला सिखा देती है. अच्छे रिश्तों को संभालने की जरूरत होती है.

आप को और क्याक्या पसंद है?

मुझे डांस और सिंगिग ही सब से ज्यादा पसंद हैं. मुझे खाने में सादा खाना बहुत अच्छा लगता है. अगर अपने हाथ से बना कर खाना हो, तो मैं दालचावल, भिंडी की सब्जी और चिकन खाना पसंद करती हूं. पहनने में मुझे आरामदायक पोशाक पसंद है.