सरिता विशेष

पहले क्रिकेट फिर हौकी, बैडमिंटन, कबड्डी और अब फुटबाल को मुनाफे की मंडी बनाने के लिए लीग का फार्मूला रचा गया है. कोलकाता के साल्ट लेक स्टेडियम में फुटबाल लीग यानी आईएसएल के महासंग्राम का आगाज हुआ. कहा जा रहा है कि अब भारत में फुटबाल की दुनिया बदलने जा रही है. इस लीग में 8 टीमें हिस्सा ले रही हैं. इस की कुल इनामी राशि 35 करोड़ रुपए है. विजेता टीम को 15 करोड़ रुपए दिए जाएंगे. बाकी रुपए उपविजेता और अन्य टीमों में बांट दिए जाएंगे. इस लीग में 14 भारतीय खिलाडि़यों के अलावा 94 विदेशी खिलाड़ी होंगे. और सभी टीमों में एक मार्की खिलाड़ी होगा.

इस लीग में टीम के मालिकों में बौलीवुड के बड़ेबड़े स्टार, अभिषेक बच्चन, रितिक रोशन, जौन अब्राहम और रणबीर कपूर के अलावा क्रिकेटर महेंद्र सिंह धौनी, सचिन तेंदुलकर, सौरभ गांगुली व विराट कोहली शामिल हैं. जहां तक टीमों की बात करें तो एटलेटिको डी, चेन्नइयन एफसी, कोलकाता, दिल्ली डायनामोज, एफसी गोआ, केरल ब्लास्टर्स, नौर्थ ईस्ट यूनाइटेड एफसी, मुंबई सिटी एफसी के अलावा एफसी पुणे जैसी टीमें शामिल हैं. इस लीग से भारतीय फुटबाल का कितना भला होगा इस पर खेल विशेषज्ञों की राय अलगअलग है. लेकिन इतना तय है कि छोटे स्तर के खिलाडि़यों को बड़ेबड़े खिलाडि़यों के साथ खेलने का मौका जरूर मिलेगा. यह कदम देश में फुटबाल की स्थिति सुधारने में कारगर साबित होगा. साथ ही उन खिलाडि़यों का आर्र्थिक स्तर भी सुधरेगा जो पैसों की कमी के चलते आगे नहीं बढ़ पा रहे हैं.

क्रिकेट के अलावा देश में बैडमिंटन, हौकी और कबड्डी की भी ऐसी लीग बन चुकी है जिन्हें ग्लैमर की चाशनी में लपेट कर कमाऊ बनाया गया है. ऐसे में फुटबाल की यह लीग भी अपने मिशन में कामयाब होती दिख रही है.