वस्तु एवं सेवाकर (जीएसटी) को 1 जुलाई को लागू किया जाना तयशुदा है. हालांकि इसे लागू करने में जहां एक महीने के करीब ही वक्त बचा है, वहीं लोगों और कारोबारियों के मन में इसे लेकर अभी कई सवाल बाकी हैं और कई उधेड़बुन बनी हुई हैं.

इसी के चलते डिपार्टमेंट ऑफ रेवन्यू ने एक नया ट्विटर हैंडल शुरू किया है जिस पर इस नयी अप्रत्यक्ष कर व्यवस्था से जुड़े उद्योग जगत के सवालों का जवाब दिया जाएगा. व्यापारी और उद्योग जगत ‘एटदरेट आस्कजीएसटी अंडरस्कोर जीओआई’ ट्विटर हैंडल पर सवाल पूछ सकते हैं. केंद्रीय उत्पाद एवं सीमा शुल्क के अधिकारी इन सवालों का जवाब देंगे.

@askgst_goi पर जाकर करदाता और व्यापारी-कारोबारी अपने सवालों के जवाब पूछ सकते हैं.  वित्त मंत्रालय ने कहा है कि सभी करदाता और अन्य हितधारकों का उपरोक्त वर्णित ट्विटर हैंडल पर जीएसटी से जुड़े सवाल सीधे पूछने का स्वागत है ताकि उनका जल्द से जल्द समाधान और स्पष्टीकरण किया जा सके.

केंद्रीय वित्त मंत्री की अध्यक्षता वाली जीएसटी परिषद ने इस महीने की शुरुआत में जीएसटी के तहत 1200 से ज्यादा वस्तुओं और 500 सेवाओं का टैक्स स्लैब निर्धारित करने का फैसला किया था. इन सभी वस्तुओं और सेवाओं को 5, 12, 18 और 28 प्रतिशत के चार स्तरीय स्लैब में वर्गीकृत किया गया था.