समलैंगिक संबंधों को सुप्रीम कोर्ट ने अब जुर्मों के बाहर कर दिया है. ताजीराते हिंद यानि इंडियन पीनल कोर्ड की धारा 377 की मरम्मत करते हुए उन्होंने साफ कह दिया है कि दो जनानों का किसी भी तरह का प्रेम कानूनी दायरे में नहीं आएगा. यह कानून अंग्रेजों ने बनाया था पर उस से पहले किस बात को समाज गलत मानता था और किस को नहीं आज कहना मुश्किल है. समाज का कानून तो पति के मर जाने पर भी बेवा पत्नी को सजाए मौत की सजा देता रहा है. दया आई तो उस का सिर मुंडवा कर कभी वृंदावन भेज दिया था तो कभी घर के कोने में धकेल दिया.

लेकिन 2 आदमियों के बीच सैक्स कोई नई बात नहीं है. और न ही अजीबोगरीब. बोलचाल की  गालियों में इस का इस्तेमाल ऐसे किया जाता है मानो हर जना ही समलैंगिक हो. समाज इन गालियों को सिरमाथे पर रखता है, वर्ना तो कब का इन पर रोकटोक लग सकती थी. कभी रामायण महाभारत को पढ़ कर देवताओं के कारनामों के बारे में कुछ कह कर देखें, समाज के ठेकेदार बिलबिला कर पीछे पड़ जाएंगे. जाहिर है समाज को आदमियों के बीच सैक्स उसी तरह मंजूर है जैसे वेश्याओं से. चूंचूं कर ली पर होने दिए.

सुप्रीम कोर्ट ने इसे कानूनी दायरे के बाहर कर के अब 2 औरतों और 2 आदमियों को मर्जी से एकदूसरे के साथ रहने की इजाजत दे दी है. कम से कम खाकी वर्दी वाला डंडा घुमाता तो नहीं आएगा. वैसे एक आदमी औरत के बीच पैसे देले कर भी सैक्स कानून में जुर्म नहीं है पर पुलिस और कुछ कानूनों का सहारा ले कर पकड़ ही लेती थी. 2 आदमियों और 2 औरतों के बीच शादी अब कानून नहीं हो सकती. शादी होने के बाद विरासत का फायदा हो जाता है और गोद लेने में आसानी रहती है. शायद यह अगला कदम होगा.

इस मामले में भगवा सरकार का रुख बड़ा मजेदार रहा है. पहले ये लोग इसे अनैतिक मानते रहे थे पर समलैंगिकों ने इस तरह जम कर हल्ला मचाया और लगातार मचाया कि सरकार के हौंसले पस्त हो गए. राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ को भी झुकना पड़ा जो वर्ग शादी को संस्कार मान कर सैक्स सिर्फ शादी के बाद की इजाजत देना चाहता था. जो कट्टरपंथी पैंतरें पहले भगवाधारी अपनाने थे वे जनता के दबाव में बह गए.

इस मामले में तैयार किए गए जनमत ने धर्म की चूलें हिला दी हैं. किसी भी धर्म में 2 आदमियों या 2 औरतों की शादियों के नियम नहीं हैं. कहीं भी पंडों, पादरियों, मुल्लाओं, ग्रंथियों, भिक्शुओं को दान दक्षिणा नहीं मिलती. इसीलिए सभी धर्म 2 आदमियों 2 औरतों के सैक्स और शादी के खिलाफ हैं. जब बच्चे नहीं होंगे तो दान मिलने के मौके और कम जाएंगे इसलिए भक्तों  को उस रास्ते पर जाने ही न दो. यह बात दूसरी कि जो पंडेपादरी शादी के बिना रहने को मजबूर हैं वे इस में गले तक डूबे रहे हैं.

2 आदमियों और 2 औरतों का सैक्स आज के युग में शादी से ज्यादा सहूलियत वाला है. इस में बच्चों का डर नहीं. जब चाहा जब ब्रेकअप कर लो. जितने दिन बात बनी ठीक है. दोनों कमाऊं. दोनों बराबरी की हैसियत वाले. घरेलू पार्टनरशिप इस से अच्छी भला कैसी हो सकती है.