सरिता विशेष

शादी के बाद प्रिया पति के साथ पहली बार दूसरे शहर आई थी. उस के पति का ‘दृष्टि रेजीडैंसी’ में खूबसूरत फ्लैट था. अपने शहर में प्रिया का बड़ा सा परिवार था. त्योहार के दिन सभी एकजुट हो, मिलबांट कर खुशियां मनाते थे. यहां उसे अकेलापन महसूस हो रहा था. जैसेजैसे दीवाली करीब आ रही थी. प्रिया की समझ में नहीं आ रहा था कि क्या करे? पति प्रकाश से बात करने पर पता चला कि उस के ज्यादातर दोस्त बाहर के रहने वाले हैं. वे लोग पहले से ही घर जाने का टिकट करा चुके हैं.

कुछ लोग हैं जो उस के फ्लैट से दूर रहते थे. प्रिया ने अपने कौंप्लैक्स में रहने वाले कुछ परिवारों से कम दिनों में अच्छी जानपहचान कर ली थी. उस ने उन सब के साथ मिल कर बात की तो पता चला कि कौंप्लैक्स में कुछ परिवार दीवाली मनाते हैं. वे भी अपने फ्लैट के अंदर ही दीवाली मना लेते हैं. बहुत हुआ तो किसी दोस्त को कुछ उपहार दे कर त्योहार मना लेते हैं. अब प्रिया ने तय कर लिया कि इस बार दीवाली को नए तरह से मनाना है. दृष्टि रेजीडैंसी बहुत ही खूबसूरत जगह पर थी. उस के पास में हराभरा पार्क था. प्रिया ने पार्क की देखभाल करने वाले से कह कर पार्क को साफ करा दिया.

इस के बाद उस ने एक खूबसूरत सा दीवाली कार्ड डिजाइन किया. इस के कुछ प्रिंट लिए और अपने कौंप्लैक्स में रहने वालों के लिए चाय, नमकीन और मिठाई का प्रबंध भी कर लिया था. उस ने दृष्टि रेजीडैंसी के सभी 50 फ्लैट के लोगों को बुलाया था. प्रिया को यकीन था कि ज्यादातर लोग आएंगे. शाम को पति प्रकाश के आने पर उस ने अपना पूरा प्लान उन को बताया. पहले तो प्रकाश को यकीन ही नहीं हुआ, लेकिन सारी तैयारियां देख कर उस का मन खुशी से भर गया. प्रकाश ने प्रिया का हाथ बंटाते हुए खुशियों को बढ़ाने के लिए दीवाली के प्रदूषणमुक्त पटाखे और गीतसंगीत के लिए डीजे का भी इंतजाम कर लिया.

शाम 8 बजे प्रिया और प्रकाश पार्क में सजधज कर पहुंच गए. थोड़ी देर के बाद एकएक कर लोग वहां पहुंचने लगे. ऐसे में दीवाली का एक नया रूप सामने आ गया. देर रात तक पार्टी चलती रही, नाचगाना, मस्ती सब कुछ खास था. बाद में लोगों ने अपने हिसाब से पटाखे और फुलझडि़यां भी चलाईं. सभी लोगों ने इस शानदार आयोजन के लिए प्रिया को दिल से धन्यवाद दिया. प्रिया ने जो शुरुआत की वह हर साल होने लगी. अब इस आयोजन में सभी परिवार मिलजुल कर काम करने लगे. पार्टी में होने वाले खर्च को भी आपस में बांट लिया गया. बहुत लोग जुटे तो पार्टी का अलग ही मजा आने लगा. दीवाली रात का त्योहार है. ऐसे में रोशनी और पटाखों का अपना अलग मजा होता है. मिठाई और नमकीन के साथ ऐसे त्योहार का मजा और भी ज्यादा बढ़ जाता है.

खर्च घटाएं और मजा बढ़ाएं

मिलजुल कर त्योहार मनाने से त्योहार में होने वाला खर्च घटता और मजा बढ़ता है. अपने घरपरिवार से दूर रह कर भी घर जैसे मजे लिए जा सकते हैं. आज के समय में ज्यादातर लोग अपने शहर और घर से दूर कमाई के लिए दूसरे शहरों में रहते हैं. अपने घर जाने के लिए उन को छुट्टी लेनी होती है. कई बार छुट्टियों में घर जाने के लिए रेल, बस और हवाई जहाज के महंगे टिकट लेने पड़ते हैं. मुसीबत उठा कर अपने घर जाना कई बार परेशानी का सबब बन जाता है. ऐसे में त्योहारों के संयुक्तरूप से होने वाले आयोजन अच्छे होते हैं. मिलजुल कर इन का आयोजन करने से सभी लोगों की हर तरह से भागीदारी रहती है. इस से कोई किसी को अपने पर बोझ नहीं समझता है. कम खर्च में अच्छा आयोजन हो जाता है. परिवार के साथ रहने से पति दोस्तों के साथ शराब पीने और जुआ जैसे कृत्य से परहेज करता है.

मिलेगा हर रिश्ता

संयुक्त आयोजन में हर रिश्ता मिलता है. जिस के मातापिता साथ नहीं रहते वे दूसरों के परिवार में रहने वाले मातापिता का साथ पाते हैं. किसी को भाभीभाई, अंकलआंटी, देवरानीजेठानी, बेटाबेटी और बहन जैसे हर रिश्ते अलगअलग परिवारों से मिल जाते हैं. आपस में जो दोस्ती पहले से होती है वह और प्रगाढ़ हो जाती है. त्योहारों के समय रिश्तों के आपस में जुड़ने से केवल खुशियां ही नहीं बांटी जा सकतीं, जरूरत पड़ने पर दुखदर्द भी बांटे जा सकते हैं. धर्म, रूढि़वादिता और कुरीतियां हमें बांटने का काम करते हैं. त्योहारों का लाभ उठा कर इस दूरी को कम किया जा सकता है.

आज एकल परिवारों का दौर है. ऐसे में बच्चों को बहुत सारे रिश्तों और उन की गंभीरता का अंदाजा नहीं होता है. अगर ऐसे आयोजन होते रहेंगे तो एकल परिवार में रहते हुए भी किसी हद तक संयुक्त परिवारों का मजा लिया जा सकता है.

मजेदार होंगे पार्टी गेम्स

संयुक्त आयोजन को मजेदार बनाने के लिए पार्टी गेम्स को भी उस में शामिल कर सकते हैं. ये हर उम्र को ध्यान में रख कर तैयार किए जाने चाहिए. इस से आयोजन में रोचकता बनी रहेगी. लोगों का समय पास होगा. गीतसंगीत का हलकाफुलका आयोजन भी करना चाहिए. इस में पार्टी में शामिल हुए लोगों की हिस्सेदारी होनी चाहिए. हर किसी में कुछ अलग काम करने की प्रतिभा होती है. सब को प्रतिभा के अनुरूप काम देना चाहिए. बच्चों को ऐसे आयोजनों में नजरअंदाज नहीं करना चाहिए. उन को भी उन की प्रतिभा के अनुसार कुछ काम देना चाहिए. संयुक्त आयोजन होने से दीवाली में पटाखों से होने वाले प्रदूषण को कम किया जा सकता है.

संयुक्त आयोजन होने से त्योहार का मजा दोगुना हो जाता है. सभी धर्मों के बीच रहने वाले लोग भी इस का हिस्सा बन जाते हैं. इस से अलगअलग जगहों की संस्कृति और खानपान का मजा भी लिया जा सकता है. आज जिस तरह से आपस में दूरियां बढ़ रही हैं उसे कम करने का एक बड़ा माध्यम है कि त्योहारों की खुशियां मिलजुल कर मनाएं. केवल रेजीडैंशियल कौंप्लैक्स में ही नहीं, कसबों, महल्लों, शहरों और गांवों में भी दीवाली उत्सव के संयुक्त आयोजन होने चाहिए. इस से समाज में एक नए प्यार और सौहार्द का माहौल बनेगा.