बांझपन किसी भी औरत के लिये सबसे वेदना का विषय होता है. इस कारण वह बांझपन दूर करने के लिये हर तरह का समझौता करने को तैयार हो जाती है. कई बार औरतों में बच्चा न होने का कारण पति में कमी का होना होता है पर वह इस बात को मानने के लिये तैयार नहीं होता. ऐसे में औरतें बांझपन दूर करने के लिये ढोंगी बाबाओं का शिकार हो जाती है.

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से 30 किलोमीटर दूर बाराबंकी जिले में बाबा परमानंद औरतों के बांझपन को दूर करने का काम करते थे. बाबा परमानंद का असल नाम रामशंकर तिवारी था. बाराबंकी जिले के हर्रई गांव में उनका आश्रम है. बाबा के आश्रम में बच्चे पैदा करने की चाहत रखने वाली महिलाओं की लाइन लगी रहती थी. आश्रम में कई राज्यों से महिलाएं आती थीं. दिल्ली, उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल और बिहार से आने वाली महिलाएं ज्यादा होती थीं.

बाबा के चेले इस बात का प्रचार करते थे कि बाबा के आश्रम में आशीर्वाद पाने और पूजा करवाने वाली सभी महिलाओं को बेटा होता है. बाबा की पूजा देर रात तक चलती रहती थी. इस दौरान कमरे में बाबा और महिला के अलावा कोई नहीं रहता था. पहले बाबा बाराबंकी के स्टेशन रोड पर लोगों की झाड़-फूंक करता था. धीरे धीरे जब उसका प्रचार प्रसार हो गया तो उसने गांव में ही आश्रम बना लिया, कुछ सालों में बाबा के पास अकूत संपत्ति आ गई.

बाबा के दरबार में पुलिस के कई अफसर भी आनेजाने लगे जिससे बाबा का इलाके में रूतबा बढ गया. बाबा के पास कई मोटरसाइकिल, स्कॉर्पियो, मारुति वैन, ऑल्टो, ट्रक, ट्रैक्टर के साथ सीमेंट सरिया की एक दुकान भी बताई जाती है. 1989 से लेकर साल 2008 के बीच बाबा पर तमाम तरह के 9 मुकदमें भी दर्ज हुये. इसके बाद बाबा का कद बढ गया, तो इन मुकदमों से उसका कुछ बिगडा नहीं.

12 मई को बाबा के खिलाफ धोखाधड़ी और आईटी एक्ट (अश्लीलता फैलाने) के तहत केस दर्ज हुआ. बाबा का एक वीडियो भी वायरल हुआ था, जिसमें वह एक महिला का सेक्सुअल हैरेसमेंट करते दिख रहे थे. इसके बाद कई और लोग सामने आए, जिन्होंने बाबा द्वारा ठगे जाने का आरोप लगाया. 16 मई सोमवार को एक महिला ने बाबा के खिलाफ रेप के प्रयास, धोखाधड़ी और मारपीट जैसी धाराओं में केस दर्ज कराया था. इसके बाद बाराबंकी पुलिस ने बाबा को पकडने का प्रयास शुरू किया तो बाबा अपनी गिरफ्तारी के खिलाफ हाईकोर्ट चले गये.

हाईकोर्ट ने बाराबंकी पुलिस को परमानंद की गिरफ्तारी करने से पहले सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन और सीआरपीसी की धारा 41 ए के प्रावधानों का पालन करने के निर्देश दिए थे. कोर्ट में कहा गया था कि इन प्रावधानों के तहत जिन केसों में सजा 7 साल से कम है, उनमें गिरफ्तारी से पहले यह सुनिश्चित करना जरूरी है कि वास्तव में गिरफ्तारी जरूरी है. साथ ही गिरफ्तारी से पहले संबधित ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट की परमीशन जरूरी है.

23 मई को बाराबंकी पुलिस ने पाखंडी बाबा राम शंकर तिवारी उर्फ स्वामी परमानंद और उसके ड्राईवर अरविंद पाठक को अरेस्ट कर लिया है. इस दौरान बाबा ने खुद को निर्दोष बताते हुए कहा कि उन्हें साजिश के तहत फंसाया गया है. पुलिस उस वीडियो की जांच कर रही है जिसमें बाबा एक औरत का शोषण करते दिख रहे हैं. बाबा की बात में सच्चाई है या उनके खिलाफ शिकायत करने वालों में यह अदालत तय करेगी. यह जरूर सामने आ गया कि बांझपन दूर करने के लिये आज भी औरतें इस तरह के बाबाओं के झांसे में आ जाती हैं, जिनसे उनके शोषण का रास्ता साफ हो जाता है.