डीएमके प्रमुख एम करुणानिधि ने अपनी जिंदगी में 6 मुख्यमंत्रियों को श्रद्धांजलि दी है. उन के जमाने के तो बरगद के पेड़ तक सूख गए हैं…पता चला है कि उन की और एमडीएच मसाले वाले महाशियांजी की उम्र भगवान से 2-3 साल ही कम हैं… जैसी बातों के जरिए सोशल मीडिया पर करुणानिधि का मजाक बनाने वालों को अच्छा मौका है कि वे 94 वर्षीय इस दिग्गज बुजुर्ग से सीखें कि सक्रियता ही जीवन है.

3 जून को अगर सबकुछ ठीकठाक रहा तो करुणानिधि के जन्मदिन समारोह में चेन्नई में बिखरा विपक्ष इस बात पर एकजुट होने की एक कोशिश भी कर सकता है कि राष्ट्रपति पद के चुनाव में एनडीए के उम्मीदवार के मुकाबले किसे उतारा जाए. इस बाबत करुणानिधि की बेटी कनिमोझी दिल्ली और उत्तर भारत से विपक्ष को न्योता देती घूम रही हैं. नीतीश कुमार और लालू यादव ने तो अपनी रजामंदी दे भी दी है. धीरगंभीर करुणानिधि खुद राष्ट्रपति बन जाने की गोटियां बिठा रहे हों तो बात कतई हैरत की नहीं.