सरिता विशेष
मैं एक लड़की से प्यार करता हूं. वह भी मुझे प्यार करती है. हम दोनों विवाह करना चाहते हैं. परेशानी यह है कि वह मेरी मां के चाचा की बेटी है और आयु में मुझ से 2 साल बड़ी है. क्या हमारा रिश्ता घर वालों और समाज को मंजूर होगा? क्या हमें इस बारे में अपने परिवार वालों से बात करनी चाहिए? सुझाव दीजिए.
जब आप किसी से प्यार करते हैं तो आप को रिश्तों की समझ होनी चाहिए. क्या आप को प्यार करने से पहले मालूम नहीं था कि आप का उस लड़की के साथ क्या रिश्ता है? आप के इस रिश्ते के लिए आप के परिवार वाले हरगिज तैयार नहीं होंगे. वैसे भी जरूरी नहीं कि जिस से प्यार किया जाए उस से विवाह भी हो. इस नए रिश्ते से आप की, आप के परिवार की और उस लड़की की समाज में बदनामी होगी. हिंदू परिवार में अपनी मौसी से विवाह करना मान्य नहीं होता है. इसलिए इस बारे में परिवार वालों से बात न करें और अपने प्यार को मात्र आकर्षण समझ कर भूल जाने में ही आप की व उस लड़की की भलाई है.
मैं 38 वर्षीय पुरुष हूं. विवाह को 8 साल हो चुके हैं पर हम अभी भी संतानसुख से वंचित हैं. हम ने डाक्टरी इलाज वगैरह सब कुछ कर लिया पर संतान सुख नहीं मिला. अब हम ने बच्चा गोद लेने का फैसला किया है. घर वाले चाहते हैं कि हम परिवार से ही बच्चा गोद लें जबकि मैं और पत्नी चाहते हैं कि परिवार से बाहर का बच्चा गोद लें. इस से एक बेसहारा को सहारा मिलेगा. आप बताइए हमें क्या करना चाहिए?
आप ने बच्चा गोद लेने का निर्णय बिलकुल सही लिया है और जहां तक बच्चा परिवार से या बाहर से गोद लेने की बात है, आप का बाहर से बच्चा गोद लेने का निर्णय सही है क्योंकि इस के पीछे छिपी आप की सोच नेक है कि इस से एक अनाथ बच्चे को सुरक्षित भविष्य मिलेगा और उसे एक परिवार का
सहारा मिलेगा.
परिवार से बच्चा गोद लेने पर भविष्य में समस्या हो सकती है जैसे अगर उसे बड़े हो कर उस के असली मातापिता का पता चले या फिर संपत्ति विवाद भी हो सकता है. जबकि बाहर से बच्चा गोद लेने पर ऐसी समस्या नहीं आती है, आप उसे अपने अनुसार ही ढालते हैं. उस में कोई हस्तक्षेप नहीं होता.
मैं 20 वर्षीय अविवाहित युवती हूं. मुझे सैक्स की पूरी जानकारी है और कई बार मेरा मन सैक्स करने को करता है. क्या विवाह से पूर्व शारीरिक संबंध स्थापित करना सही होगा? मैं अपने मन को कैसे समझाऊं?
इस आयु में ऐसी चाहत होना स्वाभाविक है. भले ही आप को सैक्स की पूरी जानकारी हो लेकिन विवाह से पूर्व ऐसे संबंध सिर्फ आप को टैंशन व परेशानी ही देंगे.
विवाह के बाद ऐसे संबंधों का खुलासा भी वैवाहिक संबंधों के बिखरने का कारण बनता है. इसलिए आप अपना ध्यान कहीं और लगाइए. अपनी पसंद की किसी हौबी को अपना पैशन बनाइए और सैक्स संबंधों को विवाह के बाद ही अपने जीवन में लाइए. यही आप के लिए बेहतर होगा. इस के बाद भी अगर आप का मन सैक्स करने को करता है तो आप शीघ्र ही विवाह कर लीजिए.
मैं 30 वर्षीय अविवाहित युवती हूं और एक प्राइवेट संस्थान में काम करती हूं. मेरी परेशानी यह है कि मेरे घर वाले मेरी शादी की उम्र होते हुए भी शादी नहीं कर रहे हैं बल्कि मुझ से छोेटा भाई, जो केवल 22 वर्ष का है, उस की शादी के लिए परेशान हैं. मुझे समझ नहीं आ रहा, वे ऐसा क्यों कर रहे हैं. मेरी सभी सहेलियां और सहयोगी विवाहित हैं. जब वे अपने वैवाहिक जीवन की बातें करते हैं तो मैं खुद को उन से अलगथलग महसूस करती हूं. मुझे समझ नहीं आ रहा है मैं अपने परिवार को कैसे तैयार करूं?
जीवन में हर कार्य का एक निश्चित समय होता है और निश्चित समय पर किया गया कार्य ही आप को खुशी व संतुष्टि देता है. आप की विवाह की उम्र होते हुए भी परिवार वालों का आप के विवाह की जिम्मेदारी से मुंह मोड़ना सर्वथा गलत है. कहीं आप के परिवार द्वारा आप के विवाह को गंभीरता से न लेने के पीछे आप का कामकाजी होना तो नहीं है. वे आप के विवाह के बाद आप के द्वारा दिए जाने वाले आर्थिक सपोर्ट को न खोने देना चाहते हों. आप इस बारे में अपने घरवालों से खुल कर बात कीजिए और उन के सामने अपनी इच्छा जाहिर कीजिए. इस के लिए आप अपने किसी नजदीकी दोस्त या रिश्तेदार की भी मदद ले सकती हैं.
मैं 28 वर्षीय युवती हूं. नौकरी के सिलसिले में अपने भाई के साथ दिल्ली में रहती हूं. मेरे भाई शादीशुदा हैं. भाभी अपनी सरकारी नौकरी की वजह से भैया से दूर दूसरे शहर में रहती हैं. दिल्ली आ कर मुझे पता चला कि मेरे भैया का अपनी कुलीग के साथ चक्कर चल रहा है. मुझे भाभी की बहुत चिंता हो रही है. मुझे समझ नहीं आ रहा है कि मैं इस बारे में भैया से बात करूं या घर वालों को बता दूं. आप सुझाव दीजिए.
आप इस विषय में अपने भैया से खुल कर बात करें. अगर वे आप की बात पर ध्यान न दें तो आप अपने परिवार वालों को इस बारे में बता कर उन से भैया से बात करने को कहें क्योंकि आप के भैया का गलत व्यवहार 2 लोगों की जिंदगी तबाह कर सकता है. आप के भैया के प्रेमप्रसंग में कहीं न कहीं थोड़ी गलती आप की भाभी की भी है. पत्नी से दूरी ही शायद उन्हें भटकाव की राह पर चलने के लिए प्रेरित कर रही है. फिर भी आप के भैया गलत हैं, उन से इस बारे में दोटूक बात करनी जरूरी है.