सरिता विशेष

छोटे निवेशकों के लिए डाकघर की बचत योजनाओं में निवेश हमेशा से बेहतर विकल्प रहा है. इन योजनाओं में बिना जोखिम निवेश के साथ बैंकों की बचत योजनाओं के मुकाबले न सिर्फ ज्यादा रिटर्न मिलता है, बल्कि आयकर में छूट भी मिलती है.

हाल के दिनों में म्यूचुअल फंड्स में निवेश तेजी से बढ़ने के बावजूद छोटे निवेशकों के बीच डाकघर की बचत योजनाएं काफी पसंद की जाती हैं. अलग-अलग उम्र वर्ग के हिसाब से इन योजनाओं निवेश कर आप भी रिटर्न और टैक्स छूट पा सकते हैं.

पब्लिक प्रोविडेंट फंड

7.5 फीसदी की दर से वर्तमान में इसमें मिल रहा है ब्याज

500 रुपये के न्यूनतम निवेश से योजना शुरू कर सकते हैं

वरिष्ठ नागरिक बचत योजना

8.3 फीसदी की दर से इसमें मिल रहा है ब्याज

15 लाख रुपए तक इसमें निवेश की अधिकतम सीमा है

सुकन्या समृद्धि योजना

8.1 फीसदी है जुलाई-सितंबर तिमाही के लिए ब्याज दर

250 रुपये से निवेश शुरू किया जा सकता है योजना में

इस योजना के तहत 0 से 10 वर्ष की आयु तक की कन्याओं के नाम खाता खोला जा सकता है. 21 साल की उम्र पूरी होने पर ही इस योजना से राशि की पूरी निकासी संभव है.

राष्ट्रीय बचत पत्र

7.6 फीसदी की दर से सालाना चक्रवृद्धि ब्याज अभी

100  निवेश शुरू किया जा सकता है योजना में

एनएससी में निवेश की समय सीमा वर्तमान में पांच साल है. ब्याज हर छह महीने बाद जमा धनराशि में जुड़कर चक्रवृद्धि ब्याज के हिसाब से बढ़ता है. 1.5 लाख रुपये तक कर छूट है.