बौंबे स्टौक एक्सचेंज यानी बीएसई ने रिजर्व बैंक के नए गवर्नर उर्जित पटेल का जोशो खरोश के साथ स्वागत किया. बाजार में उस दौरान निवेशकों ने जम कर निवेश किया जिस के कारण सूचकांक 2,9000 अंक के पार चला गया. इस अवधि में बाजार में जबरदस्त रौनक रही. सूचकांक 52 सप्ताह के शीर्ष पर पहुंच गया. विशेषज्ञों ने बाजार की तेजी की वजह अंतर्राष्ट्रीय माहौल को बताया. घरेलू स्तर पर आर्थिक मजबूती के लिए उठाए गए कदमों और सेवा क्षेत्र के अच्छे प्रदर्शन का भी बाजार पर सकारात्मक असर देखा गया.

इस बीच, उत्तर कोरिया के 5वें परमाणु बम धमाके से दहली दुनिया के साथ ही इस का असर दुनियाभर के शेयर बाजारों में भी देखने को मिला और इस का नकारात्मक प्रभाव पड़ा. इस के बावजूद सूचकांक मजबूती पर रहा और 9 सितंबर को 17 माह के उच्चतम स्तर पर बंद हुआ. रुपए में अच्छा उछाल रहा और सूचकांक 6 सितंबर को 17 माह के शीर्ष स्तर पर पहुंच गया. बाजार का माहौल अच्छा है और आने वाले दिनों में सूचकांक के मजबूत रहने के संकेत हैं.