सरिता विशेष

डौलर की भारी मांग के बीच रुपये में बुधवार को वर्ष 2018 की दूसरी सबसे बड़ी गिरावट आई. रुपया 7 पैसे लुढ़ककर 16 माह के नए निचले स्तर 68.14 रुपए प्रति डौलर पर पहुंच गया. कारोबार के दौरान रुपया 68.15 रुपए प्रति डौलर तक नीचे चला गया था. यह 24 जनवरी 2017 के बाद रुपए का सबसे कमजोर स्तर है. उस दिन यह 68.15 रुपए प्रति डौलर पर बंद हुआ था.

बुधवार के सत्र में अमेरिकी डौलर के सामने भारतीय रुपया औंधे मुंह लुढ़क गया है. इस गिरावट के बाद एक डौलर की कीमत 68 रुपए के नीचे है. भारतीय रुपया करीब 16 महीने के निचले स्तर पर कारोबार कर रहा है. मंगलवार को एक अमेरिकी डौलर के मुकाबले रुपया 56 पैसे की टूटकर 68.07 के स्तर पर बंद हुआ था.

क्यों आई रुपये में गिरावट

रुपए में यह गिरावट शेयर बाजार में विदेशी निवेशकों की बिकवाली की वजह से आई है. इसके अलावा खबर आई थी कि भारतीय रिजर्व बैंक ने मार्च माह में 99.6 करोड़ अमेरिकी डौलर की खरीद की है, इस खबर की वजह से भी रुपए में गिरावट देखने को मिल रही है.

business

ये सब चीजे होंगी महंगी

रुपए में आई कमजोरी की वजह से हर उस वस्तु और सेवा के लिए हमें ज्यादा कीमत चुकानी पड़ेगी जो विदेशों से आयात होती है. देश में सबसे ज्यादा कच्चे तेल का आयात होता है जिससे पेट्रोल और डीजल बनता है. दूसरे नंबर पर ज्यादा आयात इलेक्ट्रोनिक्स के सामान का होता है. तीसरे नंबर पर सोना, चौथे पर महंगे रत्न, और पांचवें नंबर पर इलेक्ट्रिक मशीनों का ज्यादा आयात होता है. इन तमाम वस्तुओं को खरीदने के लिए डौलर में भुगतान करना पड़ता है. ऐसे में इस तरह की तमाम वस्तुओं को विदेशों से खरीदने के लिए ज्यादा कीमत चुकानी पड़ेगी.

इनके लिए भी चुकानी होगी ज्यादा कीमत

इन सबके अलावा देश में खाने के तेल, कोयला, कैमिकल और कृत्रिम प्लास्टिक मैटेरियल का भी ज्यादा आयात होता है. इन सबके लिए भी ज्यादा कीमत चुकानी पड़ सकती है. इन सबके अलावा विदेश घूमना, विदेश में पढ़ाई करने जैसी सेवाएं भी महंगी होंगी.

रुपए की गिरावट से किसे फायदा

रुपए की कमजोरी के सिर्फ नुकसान ही नहीं है बल्कि इससे फायदे भी हैं. अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए सरकार लंबे समय से निर्यात को बढ़ावा दे रही है. भारत से विदेशों को सामान निर्यात करने पर उसकी पेमेंट डौलर में मिलती है. अब क्योंकि रुपया कमजोर है तो ऐसे में विदेशों से आने वाले डौलर के देश में ज्यादा रुपए मिलेंगे. मतलब यह कि निर्यात से फायदा बढ़ेगा और निर्यात आधारित इंडस्ट्री और निर्यात के लिए प्रोत्साहित होगी.

क्या होता है भारत से एक्सपोर्ट

भारत से सबसे ज्यादा इंजीनियरिंग उपकरण, जेम्स एंड ज्वैलरी, पेट्रोलियम उत्पाद, और्गैनिक और इन और्गैनिक कैमिकल और दवाओं का एक्सपोर्ट होता है. इन वस्तुओं से जुड़े तमाम उद्योगों को रुपए की कमजोरी से फायदा पहुंचेगा. इनके अलावा देश से चावल, मसाले, कपास और कई कृषि आधारित वस्तुओं का भी ज्यादा निर्यात होता है और कमजोर रुपए से इस तरह की वस्तुओं के तमाम निर्यातकों तक लाभ पहुंचेगा.

VIDEO : कलर स्प्लैश नेल आर्ट

ऐसे ही वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक कर SUBSCRIBE करें गृहशोभा का YouTube चैनल

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं