सरिता विशेष

बौलीवुड में एक मिथ रहा है कि शादी के बाद हीरोईन/अभिनेत्री का करियर खत्म हो जाता है. लेकिन इन दिनों बौलीवुड में एक नए मिथ की चर्चाएं भी हो रही हैं. सूत्रों की माने तो बौलीवुड में दबे स्वर लोग चर्चा करने लगे हैं कि शादीशुदा अभिनेत्रियां अपना करियर खत्म करने के साथ साथ अपने अभिनेता पति के करियर को भी ले डूबती हैं. अब यह मिथ किस हद तक सच है, इसका दावा तो हम नहीं कर सकते. क्योंकि हमारा अपना मानना है कि अभिनय एक ऐसी कलात्मक प्रतिभा है, जो हर कलाकार में एक समान नहीं हो सकती. मगर बौलीवुड पंडितो व बिचौलियों के बीच हो रही इन चर्चाओं को सुनने के बाद जब हमने इस पर गौर किया, तो पाया कि हकीकत में इन दिनों बालीवुड के कई दंपति कलाकार ऐसे हैं, जिनके पास एक भी फिल्म नहीं है. यानी कि इनका करियर खात्मे की ओर बढ़ रहा है.

बिपाशा बसु और करण सिंह ग्रोवर

हमने शादीशुदा दंपतियों के करियर की जांच पड़ताल की शुरूआत नए नए दंपत्ति बने बिपाशा बसु और करण सिंह ग्रोवर से की. करण सिंह ग्रोवर व बिपाशा बसु ने एक साथ 2015 की शुरूआत में प्रदर्शित असफल फिल्म ‘‘अलोन’’ में एक साथ अभिनय किया था. इस फिल्म की शूटिंग के दौरान दोनों नजदीक आए तथा कुछ माह पहले ही शादी के बंधन में बंधे हैं. पर इन दोनों के पास एक भी फिल्म नहीं है. वैसे बिपाशा बसु को तो ‘‘अलोन’’ की असफलता के बाद से कोई फिल्म नहीं मिली. ‘‘अलोन’’ से पहले 2014 में बिपाषा बसु ‘‘क्रीचर 3 डी’’ तथा ‘‘हमशकल्स’’ में नजर आयीं थी. इन दोनो ही फिल्मों ने बाक्स आफिस पर पानी नहीं मांगा था. उधर टीवी सीरियलों में अभिनय कर शोहरत बटोर चुके करण सिंह ग्रोवर तो बिपाशा बसु के साथ फिल्म ‘‘अलोन’’ करके काफी उत्साहित थे. लेकिन जब इस फिल्म को बाक्स आफिस पर सफलता नही मिली, तो करण सिंह ग्रोवर ने इरोटिक फिल्म ‘‘हेट स्टोरी 3’’ की, पर इस फिल्म ने भी बाक्स आफिस पर पानी नहीं मांगा. सूत्र बताते है कि ‘‘हेट स्टोरी 3’’ के असफल होते ही करण सिंह ग्रोवर ने अपनी तरफ से शादी के लिए जल्दबाजी की, उन्हे लगने लगा था कि कहीं ऐसा न हो कि उन्हे कोई दूसरी फिल्म न मिलने पर बिपाशा बसु उनसे दूर न चली जाए. उधर कुछ सूत्र दावा करते हैं कि अपने खत्म होते करियर की आहट को समझकर बिपाशा बसु ने पिछली बार की गलती को दोहराने की बजाय करण सिंह ग्रोवर के साथ शादी कर ली.

ज्ञातब्य है कि जान अब्राहम के साथ बिपाशा बसु के दस साल तक रिलेशन रहे, पर बाद में दोनों के बीच अलगाव हो गया था. पर सबसे बड़ी हकीकत यही है कि इस शादीशुदा कलाकार दंपति के पास फिलहाल एक भी फिल्म नहीं है. इसी के चलते यह दंपति खुद को खबरों में बनाए रखने के लिए सलमान खान द्वारा दस करोड़ का फ्लैट उपहार में दिए जाने की खबर को हवा देने के बाद इसे अफवाह बता रहा है.

सोहा अली खान और कुणाल खेमू

लगभग पांच साल तक ‘लिव इन रिलेशनशिप’ में रहने के बाद 2015 में शुदीशुदा दंपति बने अभिनेता कुणाल खेमू और अभिनेत्री सोहा अली खान के करियर की कहानी  भी लगभग बिपाशा बसु और करण सिंह ग्रोवर के करियर की कहानी जैसी ही है. सोहा अली खान की 2013 और 2014 मे रिलीज हुई सभी फिल्में बॉक्स आफिस पर बुरी तरह से मात खा चुकी थी. जबकि सनी देओल के साथ उनकी एक फिल्म ‘‘घायल वंस अगेन’’ पूरी होने का नाम नहीं ले रही थी. तो दूसरी तरफ कमोबेश यही गति कुणाल खेमू के करियर की रही. कुणाल केमू की 2012 में ‘ब्लड मनी’, 2013 में ‘गो गोवा गान’ और 2014 में ‘मि.जो बी करवा लो’ तथा 2015 में ‘भाग जानी’ और ‘गुड्डू की गन’’ रिलीज हुई.

कुणाल खेमू की यह सभी फिल्में बाक्स आफिस पर धराशाही रही. 2014 में ही सोहा अली खान और कुणाल खेमू के करियर का लगभग खात्मा हो चुका था. फिर इन दोनों ने फरवरी 2015 में ब्याह कर लिया था. सोहा अली खान के साथ शादी करने के  बाद 2015 में कुणाल खेमू की एक माह के अंतराल से दो फिल्में ‘‘भाग जानी’’ और ‘‘गुड्डू की गन’’ रिलीज हुई, जिन्होंने बाक्स आफिस पर पानी नहीं मांगा. इसके बाद फिल्मकारों ने इन दोनो से मुंह मोड़ लिया, जिसके चलते आज की तारीख में इस दंपति के पास एक भी फिल्म नहीं है. बौलीवुड में इस तरह की भी चर्चाएं सुनने में आती रहती है कि ‘‘लिव इन रिलेशनशिप’’ में रहते हुए ही सोहा अली खान व कुणाल खेमू के करियर का पतन शुरू हो गया था, फिर भी दोनों में से किसी ने भी सबक नहीं सीखा था.

करीना कपूर और सैफ अली खान

सोहा अली खान ने के भाई व अभिनेता सैफ अली खान ने जब से अभिनेत्री करीना कपूर के साथ शादी की है, तब से सैफ अली खान व करीना कपूर का करियर निरंतर पतन की ओर ही अग्रसर होता नजर आता है. 2012 में करीना कपूर की फिल्म ‘‘दबंग 2’’ को जबरदस्त सफलता मिली, तो दूसरी तरफ सैफ अली खान की फिल्म ‘‘काकटेल’’ को  बहुत बड़ी सफलता मिली. उसके बाद 2012 में ही सैफ अली खान व करीना कपूर ने शादी रचायी और 2013 में करीना कपूर व सैफ अली खान दोनो की फिल्म ‘बांबे  टाकीज’ ने बाक्स आफिस पर पानी नहीं मांगा. इतना ही नहीं 2013 में रिलीज हुई करीना कपूर खान की फिल्म ‘‘गोरी तेरे प्यार में’’ बाक्स आफिस पर आपेक्षित दर्शक जुटाने में असफल रहीं. फिर 2014 में ‘द शौकीन्स’’ तथा 2015 में ‘की एंड का’ असफल रही. हाल ही में करीना कपूर खान की फिल्म ‘‘उड़ता पंजाब’’ रिलीज हुई है, अब तो जब खबर मिल रही है, उसके अनुसार ‘उड़ता पंजाब’ से निर्माताओं को नुकसान होने की ही सभावनाएं ज्यादा नजर आ रही हैं..

उधर 2013 में सैफ अली की फिल्म ‘‘गो गोवा गान’’ भी असफल रही. 2014 में सैफ अली की ‘हमशकल्स’, ‘हैप्पी एंडिंग’’, ‘डाली की डोली’ और ‘फैटम’ को सफलता नसीब नहीं हो पायी. इतना ही नहीं सैफ अली खान निर्मित फिल्म ‘‘गो गोवा गान’’ और ‘‘लेकर हम दीवाना दिल’’ भी बाक्स आफिस पर बुरी तरह से मात खा गयी. अब 2016 में सैफ अली खान की फिल्म ‘‘रंगून’’ रिलीज होने वाली है, जिसमें सैफ अली खान के साथ शाहिद कपूर और कंगना रानौट भी हैं. कहने के लिए सैफ अली खान दीवाली के समय मल्टीस्टारर फिल्म ‘ऐ दिल है मुश्किल’ में कैमियो करते नजर आएंगे, जिसकी शूटिंग वह 2015 में ही पूरी कर चुके हैं. पर सबसे कड़वा सच यह है कि करीना कपूर और सैफ अली खान के पास घर पर खाली बैठ गप्प लड़ाते रहने या लंदन में छुट्यिां मनाने के अलावा कोई काम नहीं है. इन दोनों के पास आज की तारीख में कोई काम नहीं है.

ऐश्वर्या राय बच्चन और अभिषेक बच्चन

ऐश्वर्या राय और अभिषेक बच्चन ने 2007 में सफलतम फिल्म ‘‘गुरू’’ में एक साथ अभिनय करने के बाद शादी की थी. जब यह शादी हुई थी, तब कई तरह के दावे किए गए थे. मगर आज जब हम इनके करियर का विश्लेषण करने बैठते हैं, तो बहुत ही अजीबोगरीब स्थिति सामने आती है. 2007 ऐश्वर्या राय बच्चन के लिए हमेशा यादगार साल रहेगा. इसी साल उन्होने पूरे विश्वभर में चर्चित रही जग मूंदड़ा की अंग्रेजी भाषा की फिल्म ‘‘प्रोवोक्ड’’ करके अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शोहरत हासिल की थी. इसी साल मीरा नायर के निर्देशन में उनके अभिनय से सजी फिल्म ‘‘द लास्ट लेगियन’’ रिलीज हुई थी. मगर उसके बाद ऐश्वर्या राय की बंद मुट्ठी धीरे धीरे असफल होती फिल्मों के चलते खाली होती चली गयी. 2008 में ‘सरकार राज’ ठीक ठाक चली थी, पर ‘जोधा अकबर’ को सफलता नसीब नहीं हुई थी.

2009 में ‘द पिंक पैंथर’ से उन्हें नुकसान हुआ. 2010 में ‘गुजारिश’ की चर्चा हुई थी, मगर बाक्स आफिस पर कमजोर साबित हुई थी. लेकिन 2010 में ही ऐश्वर्या राय बच्चन की ‘रावण’’, ‘एथीरान’, ‘एक्शन रिप्ले’ जैसी असफल फिल्में आयी. उसके बाद ऐश्वर्या राय बच्चन पूरे पांच साल तक अभिनय से दूर रहीं. ऐश्वर्या राय बच्चन ने ‘जज्बा’’ से अभिनय में पुनः वापसी की. लेकिन ‘जज्बा’ के अलावा गत माह प्रदर्शित फिल्म ‘‘सरबजीत’’ ने बाक्स आफिस पर मुंह की खायी. यहां तक इन फिल्मों के लिए ऐश्वर्या राय बच्चन को ही कमजोर कड़ी माना जा रहा है. अब दीवाली के समय ऐश्वर्या राय बच्चन की फिल्म ‘‘ऐ दिल है मुश्किल’’ रिलीज होने वाली है. करण जोहर की इस मल्टीस्टारर फिल्म की शूटिंग ऐश्वर्या राय बच्चन ने  2015 में ही पूरी कर दी थी. आज की तारीख में उनके पास भी एक भी फिल्म नहीं है. कहने को तो ऐश्वर्या राय बच्चन का दावा है कि वह मणि रत्नम, सुज्वाय घोष और राजीव मेनन के साथ फिल्में कर रही हैं.

2007 में ऐश्वर्या राय बच्चन के साथ विवाह रचान के बाद से अभिषेक बच्चन का करियर भी हिचकोले लेते हुए अब तक चलता आया है. 2007 में अभिषेक बच्चन की ‘‘झूम बराबर झूम’’, ‘‘आग’’, ‘‘लागा चुनरी में दाग’’ जैसी असफल फिल्में आयी थी. पर इसी साल शाहरुख खान के साथ वाली मल्टी स्टारर फिल्म ‘‘ओम शांति ओम’’ की सफलता ने अभिषेक बच्चन के करियर को गति दे दी. 2008 में ‘द्रोण’, ‘दोस्ताना’ की असफलता ने फिर बट्टा लगाया. 2009 अभिषेक के लिए मिला जुला रहा. एक तरफ ‘दिल्ली 6’ ठीक ठाक चली, तो दूसरी तरफ ‘लक बाय चांस’ असफल रही. जबकि 2009 में ही उनके द्वारा निर्मित फिल्म ‘‘पा’’ सफल रही, जिसमें अभिषेक बच्चन के साथ ही उनके पिता अमिताभ बच्चन व विद्या बालन ने अभिनय किया था. 2010 में ‘रावण’, ‘झूठा ही सही’, ‘खेले हम जी जान से’ सहित सभी फिल्में असफल रही. 2011 में ‘गेम’ व ‘दम मारो दम’ असफल रही. 2012 में ‘प्लेयर्स’और ‘बोल बच्चन’’ ने अभिषेक के करियर को गति नही दी. यह फिल्में बाक्स आफिस पर अपना कमाल दिखाने में असफल रहीं. 2013 में ‘‘नौटंकी साला’’ असफल रही. मगर ‘धूम’ सीरीज की ‘धूम 3’ ने जरुर अभिषेक बच्चन को थोड़ी सी राहत दे दी. 2014 में एक बार फिर शाहरुख खान के साथ की मल्टीस्टारर फिल्म ‘‘हैप्पी न्यू ईअर’’ ने अभिषेक बच्चन के करियर में नई संजीवनी डालने का काम किया, पर इसका असर ज्यादा समय तक नहीं रहा. 2014 में ‘‘शौकीन्स’’ ने उन्हे पीछे ढकेला. 2015 में वह फिल्म ‘‘आल इज वेल’’ में सोलो हीरो बनकर आए, मगर इस फिल्म ने बाक्स आफिस पर पानी नहीं मांगा.

अब तो अभिषेक बच्चन स्वयं फिल्म‘ ‘आल इज वेल’’ की असफलता के लिए खुद को दोषी ठहराते हुए कहते हैं-‘‘ईमानदारी से कहूं तो इस फिल्म के लिए मेरा चयन शायद गलत हुआ था. मुझे प्रतिक्रिया मिली कि ,‘आपके सामने जो विलेन थे, जिनकी वजह से आप भाग रहे थे, वह ऐसे थे, जिन्हे देखकर लगता नहीं था कि आप इनसे डरते हो.’ मुझे भी यह समस्या समझ में आयी. मैं शारीरिक रूप से इतना बड़ा हूं कि जो मेरे सामने कलाकार थे, हालांकि वह बहुत अच्छे कलाकार है, मो. जिशान अयूब, वह पहली बार मुझे धमकी देते हैं तो लगता है कि एक थपड़ मारो, ठीक हो जाएगा. ऐसे इंसान से डर कर रोड ट्रिप पर जाना व भागना गलत लगता है. यदि मैं इस फिल्म में न होता, तो शायद यह फिल्म चल जाती.’’ अब 2016 में अभिषेक बच्चन ‘‘हाउसफल’ सीरीज की फिल्म ‘‘हाउसफुल 3’’ में नजर आए हैं, मगर इससे कोई फर्क नहीं पड़ा. अभिषेक बच्चन के पास भी कोई फिल्म नहीं है. पर वह अपनी कबड्डी टीम के साथ ‘‘प्रो कबड्डी’’ के मैचों में व्यस्त हैं. मगर अभिनय करियर तो समाप्ति की ओर जा रहा है.

इस तरह देखा जाए तो जहां तक अभिनय का सवाल है, बौलीवुड के यह चारों कलाकार दंपति फिलहाल बेरोजगारी की ओर जाते नजर आ रहे हैं. यूं तो इन सभी कलाकारों का दावा है कि इनके पास फिल्में हैं और जब वह फिल्मों की शूटिंग कर लेगे, तब घोषित करेंगे  या वह इन दिनों पटकथाएं पढ़ने में व्यस्त हैं. बहरहाल,एक बहुत पुरानी कहावत है कि ‘‘हर सफल पुरूष के पीछे कोई न कोई औरत होती है. मगर इन चार कलाकार दंपतियों की आज जो स्थिति नजर आ रही है, उसको लेकर क्या कहा जाए…