अब से कोई 25 साल पहले तक भोपाल घूमने आना पर्यटकों के लिए आखिरी 5 विकल्पों में से एक हुआ करता था लेकिन अब मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल शहर घूमने आना शुरुआती 5 प्राथमिकताओं में से एक होने लगा है. इस बदलाव की वजह महज यह नहीं है कि देश के किसी भी हिस्से से रेलमार्ग द्वारा आना यहां सुविधाजनक और सहूलियत वाला काम है, बल्कि यह है कि यहां वाकई पर्यटन के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य व विकास हुए हैं जिस का श्रेय राज्य के पर्यटन विकास निगम को भी जाता है.

तालतलैयों वाला भोपाल, झीलों वाला भोपाल, नवाबों वाला भोपाल, बाबुओं वाला भोपाल, जरदापरदा और गरदा वाला भोपाल व गैस त्रासदी वाला भोपाल अब काफी बदल गया है. दूसरे शहरों की तरह भोपाल भी चारों तरफ बढ़ा है. लेकिन अच्छी बात यह है कि यहां ऐसा हरियाली खोने या उजाड़ने की शर्त पर नहीं हुआ है. नए भोपाल की चौड़ी सड़कों के इर्दगिर्द झूमती हरियाली, बागबगीचे और जगहजगह बने पार्क पर्यटकों को एहसास कराते हैं कि क्यों और कैसे भोपाल दूसरे शहरों से भिन्न है.

राजा भोज द्वारा बसाए गए शहर भोपाल का नाम पहले भोजपाल था, फिर अपभ्रंश में इसे भोपाल कहा जाने लगा.  मुगल शासकों का यहां लंबे वक्त तक राज रहा, उस में भी दिलचस्प बात यह है कि अधिकांश वक्त शासन बेगमों ने किया.

आजादी के बाद भोपाल का विकास शुरू हुआ, तब एक नए भोपाल ने आकार लिया. नतीजतन, यह भी 2 हिस्सों में बंट गया. पुराना भोपाल और नया भोपाल.  राजधानी बनने के बाद तो यहां ताबड़तोड़ निर्माण कार्य हुए मगर 70 के दशक में बने न्यू मार्केट ने मानो भोपाल का कायाकल्प कर दिया. न्यू मार्केट न केवल व्यापारिक गतिविधियों का एक बड़ा केंद्र है बल्कि पर्यटकों के लिए शौपिंग का एक अलग अनुभव भी है. दर्जनों तंग और छोटी गलियों से हो कर जब आप बाहर निकलते हैं तो एक भोपाली जज्बा भी आप के साथ होता है. नए और पुराने भोपाल को बांटते न्यू मार्केट की ख्ूबी है कि आप किसी भी तरफ चले जाइए, कोई न कोई पर्यटन स्थल आप का स्वागत कर रहा होगा.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
COMMENT