लहर की नेटचैटिंग की आदत से अंजली बहुत परेशान थी. वह जब भी लहर को समझाने की कोशिश करती तो वह अंजली को अपनी बातों से चुप करा देती. बचपन की सहेली को यों गुमराह होते देख अंजली ने एक योजना बना डाली.

‘अंजली, तुम से आखिरी बार पूछ रही हूं, तुम मेरे साथ साइबर कैफे चल रही हो या नहीं?’ लहर ने जोर दे कर पूछा.

Tags:
COMMENT