सागर और रिया की दोस्ती को नेहा शक के दायरे में ले लेती थी. लेकिन, कभीकभी हमारी आंखें जो प्रत्यक्ष देख रही होती हैं, अप्रत्यक्ष रूप से सब कितना विपरीत होता है.
'सरिता' पर आप पढ़ सकते हैं 10 आर्टिकल बिलकुल फ्री , अनलिमिटेड पढ़ने के लिए Subscribe Now