अरु भाभी और शशांक भैया के चेहरे के उठतेगिरते भावों को पढ़तेपढ़ते मैं सोच रही थी कि बंद मुट्ठी में रेत की तरह जब सबकुछ फिसल जाता है तब क्यों इनसान चेतता है? बरसों पहले मैं ने इन से कहा भी था, ‘बच्चे तो नए कोमल पौधे की तरह होते हैं. जैसे खाद मिली वैसे बनसंवर गए. यदि आप का संतुलित व्यवहार यानी...’

Tags:
COMMENT