निविदा को चंडीगढ़ के मशहूर गर्ल्स कालेज में प्रवेश मिल गया था. उस की खुशी का ठिकाना न था. उज्ज्वल भविष्य की एक उम्मीद तो पक्की हो ही गईर् थी, पर सब से बड़ी बात यह थी कि वह अपने घर से भाग जाना चाहती थी. घुटन होती थी उसे यहां रहने में. नफरत हो गई थी उसे पिता की दबंगता व मम्मी की भीरुता से.

निविदा उठ कर अपनी स्टडी टेबल पर बैठ गई. मन में पिता के रौद्र रूप का कुछ ऐसा डर बैठा कि वह अपनी सहेलियों के पिताओं से भी डरने लगी. कोई उस से ऊंची आवाज में कुछ पूछ लेता तो उस के मुंह से शब्द नहीं निकल पाते. ऐसी स्थिति उस के साथ अकसर आती.

उस की सहेलियां अकसर उस का मजाक उड़ातीं, ‘‘कब तक बच्ची बनी रहेगी?’’

मम्मी का कभी सिर फूटा होता, कभी गालों पर थप्पड़ों के निशान होते, तो कभी पीठ पर नील पड़े होते. मम्मी को तो लंबे समय तक नाराज रहने या बोलचाल बंद रखने का भी अधिकार नहीं था. पापा से अधिक मुंह फुला कर बात करना भी उन्हें भारी पड़ जाता. वे और पिट जातीं. अगर पिटतीं नहीं तो खाने की थाली फिंकती या घर की कोई अन्य चीज टूटती. घर का वातावरण हमेशा तनावपूर्ण बना रहता. उस में सांस लेना दूभर हो जाता.

बचपन की याद आते ही निविदा का मन कड़वाहट से भर गया. उसे याद आया कि

क्लास में टीचर अचानक खड़ा कर के कोई

प्रश्न पूछते तो उत्तर आते हुए भी वह बता नहीं पाती थी और अगर टीचर ने डांट दिया तो उस की बोलती अगले कई दिनों के लिए बंद हो

जाती थी. वह चाहते हुए भी बातचीत शुरू नहीं कर पाती थी.

निविदा की ऐसी कई स्थितियां देख कर प्रिंसिपल जबतब उस की मम्मी को बुला लेती थीं पर मम्मी बेचारी भी क्या करतीं. वे इतनी परेशान हो गईं कि उस का स्कूल बदलने का सोचने लगीं. तब मम्मी की एक फ्रैंड ने उसे किसी मनोचिकित्सक को दिखाने की सलाह दी. मम्मी पिता से छिप कर उसे मनोचिकित्सक के पास ले गईं.

डाक्टर ने सबकुछ विस्तार से जानना चाहा तो मम्मी ने सबकुछ बता दिया.

पूरी बात सुन कर डाक्टर ने कहा, ‘‘मैं दवा तो दूंगा, लेकिन सब से पहला इलाज तो आप दोनों पतिपत्नी के हाथों में है. इस तरह लड़ते पतिपत्नी, एक कोने में खड़े बच्चों को बिलकुल भूल जाते हैं कि उन के कोमल मन पर इस का कितना खतरनाक असर पड़ता है.

‘‘आज की आप लोगों की  गलतियां आप की बेटी को मानसिक रूप से उम्रभर के लिए पंगु बना देंगी. वह अपना आत्मविश्वास खो देगी. मानसिक रूप से बीमार हो जाएगी.’’

‘‘आप ही बताएं, क्या करूं डाक्टर?’’

‘‘मेरे खयाल से बच्ची के भविष्य के लिए आप को अपने पति से अलग हो जाना चाहिए.’’

‘‘यह कैसे होगा डाक्टर… बच्ची का भविष्य बनाने के लिए पैसा भी तो चाहिए? मायके से भी कोई सहारा नहीं है मुझे,’’ मम्मी हताश हो कर बोलीं तो डाक्टर हार कर चुप हो गए.

डाक्टर से दवा लिखवा कर मम्मी उसे घर ले आई थीं. उस के बाद मम्मी उस का अतिरिक्त खयाल रखने लगी थीं.

बड़ी होतेहोते निविदा समझने लगी थी कि उसे अतिरिक्त भावनात्मक सुरक्षा देने में मम्मी भी किस कशमकश व अंतर्द्वंद्व के दौर से गुजरती थीं.

एक तरफ गुस्से से दहाड़ता पति, दूसरी तरफ कांपती बेटी… मम्मी को खुद को कितना जोड़ना पड़ता था उसे टूटने से बचाने के लिए.

मम्मी बस उसे उठतेबैठते पढ़ाई पर ध्यान लगाने के लिए समझातीं, कुछ बड़ा करने के लिए प्रेरित करतीं, ‘‘देख बेटा, बहुत कुछ हासिल कर सकती है तू अपनी शिक्षा के बल पर… अपने पैरों पर खड़ा होना और वह भी इतनी मजबूती से कि कोई तुझे धक्का न दे सके… बस तू पढ़ाई में अपना तनमन लगा दे.’’

और निविदा ने खुद को किताबों में डुबो दिया. जबजब घर की स्थिति कटुपूर्ण होती, वह अपने कमरे का दरवाजा बंद कर देती, क्योंकि पिता का विरोध करने की उस में हिम्मत नहीं थी. ‘पिता का मजबूती से विरोध करने के लिए उसे मजबूती से अपने पैरों पर खड़ा होना पड़ेगा,’ इसी सोच ने उसे किताबी कीड़ा बना दिया.

12वीं कक्षा में उस ने 97% मार्क्स लिए. मम्मी काफी खुश हुईं. पापा ने भी बहुत शाबाशी दी. बेटी की प्रगति से वे खुश तो होते थे पर वे उस का खो क्या रहे हैं, यह नहीं समझते थे.

लड़कियों के मामले में उस के पिता आज भी दकियानूसी विचारों के थे. लड़कों से दोस्ती, खुली या छोटी पोषाक पहनना, बातचीत में खुलापन, बड़ों से हर विषय पर बातचीत, लड़की का मुंह उठा कर कुछ भी जोर से बोल देना, देर तक सहेली के घर रुकना, उन की नजरों में आज के जमाने में भी संस्कारहीन रवैया था. ऐसे ही बहुत से कारण थे जिन से वह इस बंदीगृह से भाग कर खुली हवा में सांस लेना चाहती थी.

आखिर उस का प्रवेश चंडीगढ़ के एक कालेज में हो गया. लेकिन उस की मुश्किलें यहां भी कम नहीं हुईं. पीजी होस्टल में उसे रूममेट के नाम पर जिस लड़की का साथ मिला, वह उस से बिलकुल उलट थी. मालिनी अति आत्मविश्वासी, बिंदास, टौमबौय टाइप की, पढ़ने में औसत, एक हाकी प्लेयर थी जिस का प्रवेश इस कालेज में स्पोर्ट्स कोटे से हुआ था.

ये भी पढ़ें- विनविन सिचुएशन

निविदा ने कमरे में पहले अपना सामान रखा, बाद में मालिनी आई थी. 5 फुट 7 इंच लंबी पैंटशर्ट पहने, बौय कट हेयर और लड़कों जैसे बेबाक हावभाव व बातचीत देख कर निविदा पहले ही दिन घबरा गई कि कहां फंस गई… यह तो पढ़ने भी नहीं देगी. उस ने अपना कमरा बदलवाने की कोशिश भी की पर सफल न हो सकी.

‘‘क्या बात है कमरा बदलवाने गईर् थी? मुझ से डर लगता है… खा जाऊंगी क्या?’’

‘‘न… नहीं तो…’’ निविदा उस की बेबाक बात से सूखे पत्ते सी कांप गई.

‘‘तो फिर?’’ वह एक पैर कुरसी पर रखती हुई बोली.

‘‘नहीं, बस मैं तो ऐसे ही…’’

‘‘क्या कमरा बदलना है?’’ वह उस के कंधे पर हाथ रखते हुए, देख लेने वाले अंदाज में बोली, ‘‘तो बदलवा देती हूं.’’

‘‘न… नहीं तो…’’

‘‘ठीक है तो फिर फिक्र मत कर…’’ वह कंधा थपथपाते हुए बोली, ‘‘अब चल जरा मेरा सामान खोल और मेरी अलमारी में लगा दे..’’

‘‘मैं?’’

‘‘हां तो और कौन? पिघल जाएगी क्या

मेरा सामान लगाने में?’’ वह धमकाने वाले अंदाज में बोली.

निविदा आगे कुछ नहीं बोली. चुपचाप मालिनी का सामान निकाल कर अलमारी में लगाने लगी. कमरा छोड़ कर जाए भी तो कहां. यहां होस्टल में यह दबंग लड़की उसे रहने नहीं देगी और घर जाना नहीं चाहती.

मालिनी का बिस्तर ठीक करना, कपड़े धोना, प्रैस करना, मतलब कि उस के सभी जरूरी कार्य करना उस की दिनचर्या में शामिल होने लगा. तिस पर भी मालिनी उसे चैन से रहने दे तब तो. कभी वह कमरे में दोस्तों का जमघट लगा लेती, कभी फोन पर जोरजोर से बातें करती, कभी मोबाइल पर गाने सुनती. और कुछ नहीं तो जबरदस्ती उस से फालतू की बातें करती. वह तभी चैन से पढ़ पाती जब मालिनी कहीं खेलने गई होती.

मालिनी क्लास में भी उस की दोस्ती किसी दूसरे से नहीं होने देती. उस की दबंगता की वजह से दूसरी लड़कियां निविदा के आसपास भी नहीं फटकतीं. मालिनी उस से मनचाहा व्यवहार करती. उस का दब्बूपन उस के लिए कुतूहल का विषय था. ऐसी लड़की पढ़ने में इतनी होशियार कैसे थी कि उसे इस कालेज में प्रवेश मिल गया.

मालिनी की हरकतों की वजह से निविदा भी कई बार डांट खा जाती थी.

एक दिन मालिनी टीचर्स के जाने के बाद क्लास में अपने गु्रप की लड़कियों के साथ टीचर्स की नकल कर उन का मजाक उड़ा रही थी. बाकी विद्यार्थी चले गए थे. लेकिन वह तो मालिनी की आज्ञा के बिना खिसक भी नहीं सकती. उस दिन मालिनी व उन लड़कियों की शिकायत चपरासी के जरीए टीचर्स तक पहुंच गई.

उन सब के साथ निविदा को भी खूब डांट पड़ी. कालेज में उस पूरे ग्रुप की तो छवि खराब थी ही, निविदा भी उस में शामिल हो गईर् थी. उन के क्लासरूम के आगे स्टाफरूम था जहां से निकल कर जाते समय टीचर्स की नजर विद्यार्थियों पर पड़ जाती थी.

दूसरे दिन मालिनी व उस की गु्रप की लड़कियां क्लासरूम की पीछे की खिड़की से कूद कर एडल्ट मूवी देखने की योजना बना रही थीं.

मालिनी ने उसे भी पकड़ लिया, ‘‘तू भी चल हमारे साथ.’’

‘‘नहीं, मैं नहीं जाऊंगी… मुझे क्लास अटैंड करनी है,’’ वह भीख मांगने वाले अंदाज में बोली.

‘‘एक दिन नहीं करेगी तो क्या आईएएस बनने से रह जाएगी?’’ चुपचाप चल हमारे साथ.

‘‘तुम मेरे साथ इतनी जबरदस्ती क्यों करती हो मालिनी?’’ वह घिघियाती हुई बोली, ‘‘तुम्हें जाना है तो तुम जाओ.’’

‘‘ताकि तू टीचर्स से हमारी खासकर मेरी शिकायत कर दे.’’

‘‘मैं किसी से कुछ नहीं कहूंगी.’’

मगर मालिनी ने उस की एक न सुनी और उस के डर से वह भी पीछे की खिड़की से कूद कर मालिनी के साथ चली गई. उस में इतनी हिम्मत नहीं थी कि मालिनी की दबंगता के खिलाफ बगावत कर उस की शिकायत कर उस से दुश्मनी मोल लेती. मूवी में उस का मन बिलकुल नहीं लगा.

घर के घुटनभरे वातावरण से भाग कर यहां आईर् थी पर मालिनी पता नहीं कहां से अभिशाप बन उस के जीवन के साथ लग गईर् थी. मालिनी के गु्रप के साथ उसे जबरदस्ती रहना पड़ता था, जिस से क्लास में, कालेज में उस की छवि खराब हो रही थी.

यों मालिनी उसे कई मुसीबतों से बचाती भी थी. तबीयत खराब होने पर उसे डाक्टर को भी दिखा लाती. दवा भी ला देती. उस की तरफ उस का रवैया सुरक्षात्मक तो रहता पर वैसा ही जैसा किसी का अपने गुलाम के प्रति रहता है.

उस दिन उन के पूरे ग्रुप के गायब होने की शिकायत प्रिंसिपल तक चली गई और अगले दिन प्रिंसिपल के सामने उन का जवाब तलब हो गया. सब को खूब डांट पड़ी. सभी को अपनेअपने अभिभावकों को बुला लाने का फरमान सुना दिया गया. प्रिंसिपल के इस फरमान के बाद तो निविदा के लिए जैसे दुनिया खत्म हो गई और भविष्य चौपट.

पापा का डरावना चेहरा, मम्मी का रोनासिसकना, गिड़गिड़ाना, घर का घुटन भरा वातावरण सबकुछ याद आ गया. इस हरकत के बाद तो पापा उसे यहां कभी नहीं रहने देंगे. उस दिन कमरे में आ कर वह फूटफूट कर रो पड़ी. पर मालिनी को कोई फर्क नहीं पड़ा. वह मस्त थी.

‘‘इतना स्यापा क्यों कर रही है ऐसा क्या हो गया भई? मूवी ही तो गए थे किसी का मर्डर तो नहीं किया. प्रिंसिपल ने डांटा ही तो है… कालेज लाइफ में तो ये सब चलता ही रहता है.’’

‘‘तुम्हारे लिए यह साधारण बात होगी,’’ अचानक निविदा ने अपना आंसुओं भरा चेहरा उठाया, ‘‘पर मेरे लिए तो मेरा पूरा भविष्य खत्म हो गया. मुझे तो अब कालेज छोड़ना पड़ेगा… मेरे पापा अब मुझे यहां किसी कीमत पर नहीं रहने देंगे… जिन मुश्किलों से घबरा कर यहां आई थी, तुम्हारी हरकतों व ज्यादतियों ने मुझे फिर वहीं धकेल दिया. तुम्हारा क्या, तुम तो खेल की दुनिया में भी अपना कैरियर बना लोगी, पर मैं क्या करूंगी,’’ कहतेकहते निविदा फिर फूटफूट कर रोने लगी.

शांत और हर समय घबराई सी निविदा को इतने गुस्से से बोलते देख मालिनी एकाएक संजीदा हो गई. टेबल पर सिर रख कर फूटफूट कर रोती निविदा के सिर पर स्नेह से हाथ फेरने लगी, ‘‘चुप हो जाओ निविदा… लगता है कुछ गलती हो गई मुझ से… मैं कोशिश करूंगी स्थिति को संभालने की… कम से कम तुम पर आंच न आए… पर ऐसा क्या है तुम्हारे मन में जो तुम इतनी डरी और घुटी हुई रहती हो हर वक्त? क्या कमी है तुम में? तुम्हारे जैसा दिमाग, खूबसूरती, जिन के पास हो उन का व्यक्तित्व तो आत्मविश्वास से वैसे ही छलक जाएगा. सबकुछ होते हुए भी तुम इतनी डरपोक क्यों हो? आत्मविश्वास नाम की चीज नहीं है तुम्हारे अंदर.’’

निविदा ने कोई जवाब नहीं दिया.

मालिनी उस के सिर पर हाथ फेरती रही, ‘‘बताओ मुझे… शायद मैं तुम्हारी कुछ मदद

कर सकूं.’’

‘‘तुम क्या मदद करोगी मेरी… इतनी बड़ी मुसीबत में फंसा दिया मुझे.’’

‘‘बोल कर तो देखो निविदा… खोटा सिक्का भी काम आता है कभीकभी… मैं जिंदगी को बहुत गंभीरता से कभी नहीं लेती, इसलिए बिंदास रहती हूं… पर तुम्हारी बातों ने आज सोचने पर मजबूर कर दिया है.’’

और निविदा ने धीरेधीरे सुबकसुबक कर पहली बार किसी गैर के सामने अपना पूरा मन खोल कर रख दिया. पूरा बचपन, पूरा अतीत बयां करते हुए मालिनी को न जाने कितनी बार निविदा को गले लगा कर चुप करा कर सांत्वना देनी पड़ी.

‘‘इतना कुछ निविदा… काश, तुम मुझे पहले बताती. आई एम सौरी… गलती हो गई मुझ से… पर मैं ही सुधारूंगी इसे. चाहे इस के लिए मुझे सारा इलजाम खुद पर क्यों न लेना पड़े. तुम फिक्र मत करो.’’

दूसरे दिन मालिनी प्रिंसिपल से व्यक्तिगत तौर पर मिलने उन के औफिस पहुंच गई

और उन्हें सारी बात कह सुनाई, ‘‘बस एक मौका और दे दीजिए मैम. पूरे ग्रुप से आप को कभी शिकायत का मौका नहीं मिलेगा… अगर शिकायत मिली तो आप सब से पहले मुझे रैस्टिकेट कर दीजिएगा…’’

प्रिंसिपल पिघल गईं और उन्होंने पूरे ग्रुप को माफी दे दी.

निविदा मालिनी की मुरीद हो गई. उस के बिंदास, लापरवाह, दबंग स्वभाव के पीछे एक संजीदा व सहृदय दोस्त के दर्शन हुए. जिस मालिनी की वजह से निविदा को कालेज की भी जिंदगी दमघोटू महसूस हो रही थी वही जिंदगी उसी मालिनी के सान्निध्य में खुशगवार लगने लगी थी. वह पढ़ाई करती तो मालिनी अपना ही नहीं उस का भी काम कर देती.

ये भी पढ़ें- मौन स्वीकृति

‘‘तू अपनी पढ़ाई पर ध्यान दे… मैं तेरे जैसी लायक नहीं… पर मेरी सखी जिस दिन आईएएस बनेगी गर्व से कौलर मैं ही अप करूंगी.’’

‘‘वह मौका तो मुझे भी मिलेगा मालिनी जिस दिन खेल की दुनिया में तू नाम रोशन करेगी.’’

दोनों सहेलियां दिल से एकदूसरे के नजदीक आ गईर् थीं. प्रथम वर्ष के इम्तिहान के बाद विद्यार्थी छुट्टियों में अपनेअपने घर चले गए. निविदा भी दुखी मन से अटैची पैक करने लगी. अपने घर जाने का मन मालिनी का भी नहीं हो रहा था.

‘‘मैं भी तेरे साथ तेरे घर चलती हूं निविदा… कुछ दिन तेरे साथ रहूंगी. फिर कुछ दिनों के लिए घर चली जाऊंगी या फिर तू मेरे साथ चले चलना कुछ दिनों के लिए…’’

निविदा घबरा गई. मालिनी की बेबाकी घर में क्या गुल खिला सकती है, वह जानती थी. उस ने कई तरह के बहाने बनाए और फिर सुबह की बस से अपने घर चली गई.

घर पहुंचे निविदा को 2-3 दिन ही हुए थे कि एक दिन शाम को बिना किसी पूर्व सूचना के मालिनी उस के घर पहुंच गई.

‘‘कौन हो तुम?’’ एक अजनबी लड़की को दरवाजे पर बैग और अटैची के साथ खड़े देख कर मालिनी के पापा ने पूछा.

‘‘नमस्ते अंकल… नमस्ते आंटी… मैं मालिनी हूं… निविदा की बैस्ट फ्रैंड और उस की रूममेट.’’

इसी बीच निविदा बाहर आ गई. मालिनी को देख कर बुरी तरह चौंक गई, ‘‘मालिनी तू?’’

‘‘तू मुझ से बोल कर आई थी कि मम्मीपापा के साथ साउथ घूमने जाना है पर मैं समझ गई थी तू झूठ बोल रही है. इसलिए आ गई,’’ मालिनी बेबाकी से बोली.

उस की बोलचाल, चालढाल, उस के व्यक्तित्व से लग रहा था जैसे घर में तूफान आ गया है. उस की हरकतें देख कर निविदा व उस की मम्मी सुलेखा अपनेआप में सिमट रही थीं और निविदा के पापा उस संस्कारहीन लड़की को आश्चर्य से त्योरियां चढ़ाए देख रहे थे.

‘‘मालिनी तू क्यों… मेरा मतलब तू कैसे आ गई?’’ सकपकाई सी निविदा बोली.

‘‘अरे, ऐसे क्यों घबरा रही है… तेरे साथ छुट्टियां बिताने आई हूं…’’ वह उस की पीठ पर हाथ मारती हुई बोली, ‘‘चल, मेरा सामान अंदर रख और बाथरूम स्लीपर ले कर आ… आंटीजी, कुछ खानेपीने का इंतजाम कर दीजिए. बहुत भूख लगी है.’’

सुलेखा किचन में घुस गईं. निविदा उस का सामान अंदर रख बाथरूम स्लीपर उठा लाई. मालिनी ने आराम से जूते खोल स्लीपर पहन कहा, ‘‘जा मेरे जूते भी कमरे में रख. मेरी अटैची से तौलिया निकाल लाना.’’ निविदा के तौलिया लाने पर मालिनी वाशरूम में घुस गई.

निविदा के पापा को निविदा के साथ उस का नौकरों जैसा व्यवहार अखर गया. सुलेखा पकौड़े बना लाईं.

मालिनी फ्रैश हो कर टेबल पर आ गई. पूछा, ‘‘क्या बनाया आंटी? वाह पकौड़े… तू भी खा निविदा. क्या स्वादिष्ठ पकौड़े बनाए हैं आंटी… इस निविदा को भी सिखा दीजिए… कभीकभी पीजी होस्टल के रूम में ऐसे ही पकौड़े बना कर खिला दिया करना.’’

‘‘निविदा तुम्हारी नौकरानी है न,’’ एकाएक निविदा के पापा बुदबुदाए.

‘‘अंकल कुछ कहा आप ने?’’

मगर उन्होंने कोईर् जवाब नहीं दिया. रात को मालिनी कमरे में निविदा से अपने व्यवहार के लिए माफी मांग रही थी.

‘‘पर तू ऐसा कर क्यों रही है… मेरे पापा के मन में मेरी बैस्ट फ्रैंड की इमेज खराब हो जाएगी.’’

‘‘तू देखती जा कि मैं क्या करती हूं.’’

दूसरे दिन नाश्ते की टेबल पर सब चुपचाप नाश्ता कर रहे थे. लेकिन मालिनी का घमासान जारी था. वह निविदा को किसी न किसी चीज के लिए किचन में दौड़ा रही थी.

‘‘अच्छा, वह अखबार भी उठा कर देना तो जरा निविदा,’’ वह इतमीनान से टोस्ट के ऊपर आमलेट रख कर खाते हुए बोली.

निविदा ने अखबार ला कर उसे दे दिया. फ्रंट पेज पर समाचार समलैंगिक संबंधों पर कोर्ट की मुहर लगने को ले कर था.

‘‘तुझे पता है निविदा, समलैंगिकता क्या होती है?’’ एकाएक मालिनी बोली.

निविदा के पापा के हाथ से टोस्ट छूटतेछूटते बचा. उन्होंने गुस्से से भरी नजरों से निविदा की तरफ देखा. निविदा को काटो तो खून नहीं.

‘‘चुप मालिनी बाद में बात करेंगे,’’ वह किसी तरह बोली.

‘‘अरे बाद में क्या… देख न अंदर क्या समाचार छपा है… एक पिता ने अपनी तीनों बेटियों से रेप किया… कितने वहशी होते हैं ये पुरुष… अपनी शारीरिक क्षमता पर बहुत घमंड है इन्हें… औरत को कमजोर समझते हैं… औरत इन के लिए एक शरीर मात्र है… 2 टांगों के बीच कुदरत ने इन्हें जो दिया है न उस के बल पर दुनिया रौंदने चले हैं… न रिश्ता देखते हैं, न उम्र… न समय देखते हैं न परिस्थिति… हर तरह से औरत का इस्तेमाल करना, फायदा उठाना शगल है इन का… बीवी के रूप में भी औरत का शोषण करते हैं. कमजोर मानसिकता के खुद होते हैं और मारतेपीटते, सताते बीवियों को हैं… मेरा पति ऐसा करेगा तो हाथपैर तोड़ कर रख दूंगी…’’

निविदा और सुलेखा सन्न बैठी रह गईं. पापा के सामने मालिनी की ऐसी बेबाकी से निविदा की टांगें कांपने लगीं. हाथ से दूध का गिलास छूट गया. गिलास तो फूटा ही, नाश्ते की प्लेट भी नीचे गिर कर टूट गई.

‘‘निविदा,’’ पापा की कु्रद्ध दहाड़ गूंजी, ‘‘तमीज नहीं है तुम्हें… इसीलिए भेजा है तुम्हें घर से बाहर पढ़ने कि तुम समय देखो न जगह… कुछ भी डिसकस करने लग जाओ.’’

निविदा को लगा कि पापा का गुस्सा आज या तो उस की मम्मी को हलाल करेगा या फिर उसे.

लेकिन मालिनी इतमीनान से बोली, ‘‘यह क्या निविदा… दूध पीती बच्ची है क्या अभी… चीजें गिराती रहती है… और तू कांप क्यों रही है… हर वक्त कांपती रहती है, क्लास में… कालेज में टीचर्स के सामने, लड़कियों के सामने. मैं सोचती थी तू वहीं कांपती है. डरपोक कहीं की. अंकल इसे किसी मनोचिकित्सक को दिखाइए… मानसिक रूप से बीमार है आप की बेटी.’’

निविदा के पापा गुस्से में नाश्ता पटक कर बाहर चले गए. निविदा खुद को संयत नहीं कर पा रही थी. मालिनी के सामने तो पापा ने किसी तरह खुद को नियंत्रित कर लिया पर इस का खमियाजा उसे बाद में भुगतना पड़ेगा.

पापा के जाने के बाद मालिनी निविदा को खींच कर कमरे में ले गई और छाती से चिपका लिया, ‘‘डर मत निविदा, तेरा डर ही तेरा दुश्मन है. अकसर हमारे अंदर के डर का दूसरे फायदा उठाते हैं. तेरे घर का वातावरण और तेरे पापा के व्यवहार, क्रोध व ज्यादतियों ने तेरे अंदर डर भर दिया है और मैं तेरा यह डर दूर कर के रहूंगी.’’

निविदा देर तक मालिनी के कंधे पर सिर रख कर रोती रही. उस के पापा इस कुसंस्कारी, दिशाहीन, वाचाल लड़की को जितना अपनी नजरों से दूर रखना चाहते, वह उतना ही उन के आसपास मंडराती. निविदा मन ही मन कामना कर रही थी कि मालिनी के रहते हुए घर में कोई अप्रिय स्थिति न खड़ी हो… कहीं पापा मम्मी की धुनाई कर के अपना गुस्सा न निकाल दें या फिर मालिनी को ही कुछ उलटासीधा बोल दें.

मालिनी को आए 1 हफ्ता होने वाला था. एक दिन एकाएक निविदा के

फोन पर किसी लड़के के दोस्ताना मैसेज आने लगे. वह कोई गलत बात तो नहीं करता पर उस के प्रोफाइल फोटो पर बड़े प्यारे कमैंट करता. उसे दोस्त बनाने को उत्सुक दिखता.

निविदा बहुत परेशान हो रही थी कि न जाने कौन लड़का है. प्रोफाइल पिक्चर देखी तो काफी आकर्षक लगा. फिर मालिनी से अपनी परेशानी कही, ‘‘पता नहीं इस के पास मेरा नंबर कहां से आ गया… कहीं पापा को पता चल गया तो…’’

‘‘अरे, तू इतना डरती क्यों है? कोई ऐसीवैसी बात तो नहीं लिख रहा न… इस उम्र में दोस्ती, थोड़ीबहुत ऐसी हलकीफुलकी बातें जायज हैं. लड़केलड़की की दोस्ती कोई बुरी बात नहीं. जब तक कुछ बुरा नहीं कह रहा चुप रह.’’

यह सुन कर निविदा नहाने चली गई.

मालिनी ने निविदा का मोबाइल उठा कर चुपचाप लौबी में अखबार पढ़ते उस के पापा के सामने टेबल पर रख दिया. मैसेज लगातार आ रहे थे. लगातार बजती मैसेज टोन से परेशान उस के पापा ने निविदा का मोबाइल उठाया और चैक करने लगे. किसी लड़के के मैसेज निविदा के मोबाइल पर और वे भी ऐसे दिलकश अंदाज में, साथ ही उस ने अपने कई फोटो भी भेजे थे. उन्हें समझ नहीं आया कि पहले मोबाइल पटकें या निविदा को या फिर मालिनी को घर से निकालें… बस बहुत हो गई बाहर रह कर पढ़ाई.

‘‘निविदा… सुलेखा…’’ वे बहुत जोर से चिल्लाए.

सुलेखा किचन से गिरतीपड़ती बाहर निकल आईं. अपने कमरे में बैठी निविदा को अपने पापा की इतनी ऊंची दहाड़ का कारण समझ नहीं आया पर मालिनी को सब समझ आ रहा था. वह अपना सामान पैक कर चुकी थी. आज वह निर्णय ले चुकी थी कि नाटक से परदा उठाना है.

‘‘जा तेरे पापा बुला रहे हैं,’’ मालिनी बोली.

‘‘पर क्यों… इतना गुस्सा?’’ निविदा डर के कारण थरथर कांप रही थी, ‘‘तूने फिर कुछ कर दिया क्या?’’

‘‘कुछ नहीं किया मैं ने… तू जा तो सही,’’ उस ने निविदा को कमरे से बाहर धकेल दिया.

‘‘जी पापा,’’ निविदा हकलाते हुए बोली.

‘‘कौन है यह?’’

‘‘क… कौन?’’

‘‘यह लड़का. इसीलिए भेजा है तुझे चंडीगढ़ कि तू लड़कों के साथ गुलछर्रे उड़ाए? ऐसी बिगड़ैल, संस्कारहीन आवारा लड़कियों के साथ दोस्ती करे?’’

‘‘कौन लड़का पापा? मुझे नहीं पता आप किस की बात कर रहे?’’ पर फिर

पापा के हाथ अपना मोबाइल देख कर निविदा का सिर चकरा गया.

‘‘बुला अपनी उस सहेली को बाहर. बहुत हो गई बाहर रह कर पढ़ाई. अब तू यहीं रह कर पढ़ेगी. तेरी मम्मी के उलटेसीधे अरमान हैं ये. यहां कालेज नहीं हैं क्या?’’

पापा का गुस्सा देख कर निविदा थरथर कांप रही थी. सबकुछ समझ गई थी…

मालिनी ने उस का भविष्य खत्म कर दिया…

‘‘मैं इस लड़के की अभी पुलिस में रिपोर्ट करता हूं,’’ निविदा के पापा बोले.

‘‘ऐसा क्यों कर रहे हैं आप? पहले निविदा को आराम से बैठा कर पूछ तो लीजिए कि कौन है यह,’’ सुलेखा बोलीं.

‘‘तू चुप रह. तेरी सह पर ही बिगड़ी है,’’ एकाएक निविदा के पापा का एक झन्नाटेदार थप्पड़ सुलेखा के गाल पर पड़ गया.

अब तक मालिनी भी लौबी में आ चुकी थी. वह बोली, ‘‘यह क्या कर रहे हैं अंकल आप… शर्म आनी चाहिए आप को.’’

‘‘तुम चुप रहो. मेरे परिवार के बीच में बोलने का तुम्हें कोई हक नहीं है. मेरी बेटी को बिगाड़ कर रख दिया है तुम ने. नौकर बना कर रखा है इसे इतने दिनों से,’’ निविदा के पापा भी उतने ही गुस्से में चिल्लाए.

‘‘नीचे सुर में बात कीजिए अंकल मुझ से. निविदा की तरह दहाड़ सुनने की

आदत नहीं है मुझे,’’ मालिनी तैश में बोली, ‘‘अभी आप मुझे संस्कारहीन कह रहे थे. आप में कौन से संस्कार हैं. निविदा को मैं ने नहीं बिगाड़ा है, बल्कि मैं तो उसे मजबूत बनाना चाहती हूं. बिगाड़ा तो आप ने है उस का भविष्य. कभी सोचा है जिस बेटी के मनमस्तिष्क में इतना डर भर दिया है, जो अपने ही घर में हर कदम पर हारती रहती है वह घर से बाहर की दुनिया से कैसे जीतेगी? आज मेरा उस से नौकरों जैसा व्यवहार आप को चुभ रहा है, लेकिन आप ने उसे जितना आत्महीन व डरपोक बना दिया है, कल जमाना दबाएगा उसे.

ये भी पढ़ें- मजाक: छुट्टी राग

‘‘विवाह के बाद आप जैसा ही कोई पुरुष उस का फायदा उठाएगा. कैसे लड़ेगी निविदा? अपने जीवन की छोटी सी भी कठिनाई से, परेशानी से… हर जगह आप खुद तो नहीं खड़े रहेंगे न उस के साथ. आंटी का जीवन नर्क बना दिया आप ने. आप की पत्नी हैं ये. क्या कुसूर है इन का? शरीर पर पड़ी आप की मार, इन के मनमस्तिष्क को उस से भी ज्यादा घायल कर देती होगी? बेटी के सामने और कर गई होगी… आज बेटी की सहेली के सामने. अगर इतना ही जोर से आंटी मार दे आप को इस समय तो कैसा लगेगा आप को?

‘‘सिर्फ पुरुष हैं. शारीरिक ताकत है. इस ताकत पर कूद रहे हैं आप? घर का माहौल इतना दमघोटू बना रखा है आप ने. मैं 2 ही दिनों में उकता गईर्. ये दोनों जिंदगी कैसे बिता रही होंगी? किसी विषय पर बात नहीं कर सकती निविदा आप के सामने. कहां जाए वह किसी विषय पर बात करने? इकलौती बेटी. पहले भरेपूरे परिवार होते थे अंकल, आजकल 1-2 बच्चे, मातापिता ही सरपरस्त, मातापिता ही दोस्त. अगर मातापिता दोस्त नहीं बनेंगे तो बच्चे बाहर भटकेंगे… इतनी अकल 20 साल की उम्र में मुझे भी है, फिर आप को क्यों नहीं है… सैक्स, समलैंगिकता, लिव इन रिलेशन, लड़कों से दोस्ती… क्या है इन बातों में ऐसा, जो आप से बात नहीं कर सकती निविदा? किसी लड़के से दोस्ती कोई गुनाह क्यों है आप की नजरों में? कौन सी सदी में जी रहे हैं आप?

‘‘और मुझे क्या निकालेंगे आप घर से. मैं खुद यहां रहना नहीं चाहती पर निविदा को समेट लीजिए अंकल, हर जगह मालिनी नहीं मिलेगी इसे… यहां पर तो मैं इस के साथ ऐक्टिंग कर रही थी… पर कालेज में जब मुझे यह पहली बार मिली थी तब ऐक्टिंग नहीं की थी मैं ने. इसे मिलने वाला हर इंसान मालिनी नहीं होगा, जो इस की असलियत जान कर गलत फायदा न उठाए और जिस लड़के के मैसेज निविदा के लिए आ रहे हैं वह मेरा भाई है. मैं ने ही कहा था उसे. स्वस्थ दोस्ती कोई गुनाह नहीं होती. अब नहीं आएंगे मैसेज… इतना मत दबाइए निविदा को कि उबरने में उस की पूरी जिंदगी खप जाए.

‘‘कमजोर पुरुष हैं आप… जिस बात का समाधान नहीं सूझा, आप ने आंटी को पीट कर निकाला और आप की मारपीट व झगड़े ने निविदा को मानसिक रोगी बना दिया था. आंटी ने छिपछिप कर इस का इलाज कराया… ऐसा न हो आप की ये हरकतें से फिर मानसिक रोगी बना दें और इस बार शायद हमेशा के लिए…’’ कहतेकहते मालिनी की आंखों में आंसू आ गए. कंठ अवरुद्ध हो गया. उस ने निविदा को एक बार गले लगाया और फिर भरी आंखों से एक प्रश्नचिह्न मालिनी के पापा की तरफ उछालती हुए अपना बैग कंधे पर डाल अटैची ड्रैग करती हुए बाहर निकल गई. रोती हुई निविदा अपने कमरे में चली गई.

निविदा के पापा हारे हुए खिलाड़ी की तरह अपनी जगह खड़़े रह गए. सुलेखा भी एक घृणित नजर उन पर डालती हुईं निविदा के पीछे चली गईं. मालिनी वह सब कह गई थी जो वे दोनों वर्षों से कहना चाहती थीं.

निविदा के पापा काफी देर हताश से वैसे ही खड़े रहे. इतने कड़े और स्पष्ट शब्दों में उन्हें आईना कोई नहीं दिखा पाया था. फिर अचानक उन की आंखों से आंसू निकले कि सचमुच बड़ी गलती कर गए जीवन में. उन की फूल सी बच्ची मनोचिकित्सक के चक्कर काट चुकी है नन्ही सी उम्र में और उन्हें पता ही नहीं. मालिनी उन के सामने एक प्रश्नचिह्न टांग गई थी. वे उठे और मालिनी के कमरे की तरफ चल दिए… जो कुछ बचा था उसे समेटने के लिए… मालिनी के प्रश्नचिह्न का जवाब लिखने के लिए.

Tags:
COMMENT