रोहित तुरंत मिस्टर सूद के केबिन में पहुंच गया. सूद साहब कुछ परेशान लग रहे थे. रोहित भांप गया कि कोई गंभीर बात है.‘‘बैठो,’’ कुरसी की तरफ इशारा करते हुए सूद साहब ने रोहित से कहा.

‘‘मिस्टर रोहित, मेरी पोजीशन बहुत खराब हो रही है,’’ सूद साहब ने धीमी और कांपती आवाज में कहना शुरू किया, ‘‘पहली तारीख को बोर्ड आफ डाइरेक्टर्स की मीटिंग है. फैक्टरी तैयार हो चुकी है, ट्रायल उत्पादन कल से शुरू होना है, लेकिन फैक्टरी शुरू करने का लाइसेंस अभी तक नहीं मिला है. अभीअभी दत्ता से खबर मिली है कि विस्फोटक विभाग में हमारी फाइल अटक गई है और वहां से कारण बताओ नोटिस जारी होने वाला है.’’

एक पल रुक कर सूद साहब ने फिर कहना शुरू किया, ‘‘रोहित, यदि लाइसेंस मिलने में देर हो गई तो हम किसी को अपना मुंह नहीं दिखा सकते हैं. बोर्ड आफ डाइरेक्टर्स द्वारा मीटिंग के फौरन बाद प्रेस कान्फ्रेंस में फैक्टरी में उत्पादन शुरू होने की घोषणा की जानी है और बिना लाइसेंस के उत्पादन शुरू नहीं कर सकते. जबकि उत्पादन हमें हर हालत में शुरू करना है, क्योंकि अगले महीने हमारा प्रतिद्वंद्वी अपना उत्पादन शुरू कर के बाजार पर कब्जा करना चाहता है.

‘‘दत्ता ने खबर दी है कि उन्होंने हमारी कंपनी के खिलाफ लिखित शिकायत दर्ज की है ताकि कंपनी को वर्क लाइसेंस मिलने में देर हो जाए और बाजी वह मार ले. मैं ऐसा किसी भी कीमत पर नहीं होने दूंगा. यदि हमारा उत्पादन शुरू नहीं हुआ तो कंपनी के शेयर डूब सकते हैं और हम कहीं के नहीं रहेंगे,’’ कह कर सूद साहब चुप हो गए.

‘‘यह सब अचानक कैसे हो गया, सर?’’ रोहित ने पूछा.

‘‘यह सबकुछ मुझे विपिन का कियाधरा लगता है. बहुत ही शातिर निकला. मुझ से एक सप्ताह की छुट्टी ले कर गया था कि लखनऊ शादी में जाना है और आज सुबह ईमेल से इस्तीफा भेज दिया. वह लखनऊ गया ही नहीं बल्कि उस ने दूसरी कंपनी ज्वाइन कर ली है और यहां की तमाम गोपनीय बातें दूसरी कंपनी को बता कर हमारी सारी मेहनत पर पानी फेर दिया.’’

‘‘मैं उसे किसी भी कीमत पर नहीं छोड़ूंगा.’’

‘‘दूसरी कंपनी ने हमारी कंपनी के खिलाफ शिकायत की है, जिस के आधार पर लाइसेंस रोक लिया गया है. दत्ता को मैं ने नवयुग सिटी में रोक रखा है. तुम फौरन वहां चले जाओ. दत्ता अकेले काम संभाल नहीं पा रहा है. उस के साथ मिल कर तुम्हें किसी भी कीमत पर लाइसेंस लेना है. साम, दाम, दंड, भेद किसी भी नीति से मुझे फैक्टरी शुरू करने का लाइसेंस चाहिए. पैसा पानी की तरह बहता है तो बहा दो पर बिना लाइसेंस के आफिस में मत घुसना. मेरे कहने का मतलब तुम अच्छी तरह से समझ गए होगे…अब तुम जा सकते हो.’’

मिस्टर सूद की बात सुन कर रोहित परेशान हो गया. खासतौर पर आखिरी शब्द तीर की तरह उस के सीने के पार चले गए कि किसी भी कीमत पर लाइसेंस लेना है और बिना लाइसेंस के आफिस में मत घुसना.

सूद के आदेश के अनुसार उसे फौरन नवयुग सिटी के लिए रवाना होना था, इसीलिए वह फटाफट ब्रीफकेस उठा कर घर चला गया.

घर आ कर रोहित ने अपने कपडे़ सूटकेस में डालते हुए पत्नी श्वेता को चाय बनाने को कहा.

‘‘क्या बात है, आफिस से जल्दी आ कर सूटकेस तैयार कर रहे हो?’’ श्वेता ने चाय बनाते हुए पूछा.

‘‘आफिस के काम से आज और अभी नवयुग सिटी जाना है. काम इतना जरूरी है कि वहां 2-3 दिन भी लग सकते हैं,’’

‘‘रोहित, तुम जहां जा रहे हो उस के पास ही न्यू समरहिल है. एक दिन के लिए वहां चले चलो,’’ श्वेता बोली.

‘‘मुश्किल है,’’ रोहित बोला.

‘‘काम खत्म होने पर एक दिन की छुट्टी ले लेना. काम के साथ आराम और मौजमस्ती भी हो जाएगी,’’ कहतेकहते श्वेता चाय के साथ कमरे में आ गई.

‘‘श्वेता, यदि काम हो गया तो एक दिन क्या एक सप्ताह न्यू समरहिल के नाम,’’ रोहित ने चाय की चुस्की लेते हुए कहा.

चाय पी कर रोहित ने सूटकेस उठाया और नवयुग सिटी के लिए रवाना हो गया.

रोहित पिछले 5 सालों से सूद की कंपनी में जरनल मैनेजर है और अपने 20 साल के कैरियर में उस ने कभी पीछे मुड़ कर नहीं देखा. सफलता की जिन ऊंचाइयों को आज रोहित छू रहा है उस की एक वजह यह भी है कि उस ने कभी असफलता का स्वाद नहीं चखा था.

नवयुग सिटी, जहां विस्फोटक विभाग का मुख्यालय है, रात के 9 बजे रोहित ब्रिस्टल होटल में पहुंचा तो दत्ता ने उस का जोरदार स्वागत इन शब्दों से किया, ‘‘आइए, रोहित साहब, आप को देख कर तो इस मुरदे में भी जान आ गई है.’’

रोहित अपना सूटकेस एक तरफ रख कर बाथरूम में घुस गया.

नहाने के बाद अपने को तरोताजा महसूस करता रोहित कुरसी खींचते हुए दत्ता से बोला, ‘‘यहां नवयुग सिटी में अकेले खूब मौज मना रहे हो.’’

‘‘प्यारे रोहित,’’ दत्ता मायूस हो कर बोला, ‘‘मैं कितना मौज मना रहा हूं यह मेरे दिल से पूछो.’’

‘‘पूछ तो रहा हूं दत्ता साहब कि वह ऐसा कौन सा गम है जिसे आप शराब के हर घूंट के साथ पीए जा रहे हैं.’’

‘‘वही लाइसेंस का गम. क्योंकि लाइसेंस तो मिलना नहीं फिर तो नौकरी के हाथ से निकलने का गम,’’ दत्ता की आवाज में गंभीरता थी.

‘‘मजाक छोड़ कर सीरियस बात करो, दत्ता,’’ रोहित ने गंभीरता से कहा.

‘‘रोहित, आज दोपहर को मिस्टर सूद से मैं ने बात की थी कि लाइसेंस नहीं मिल रहा है. यह सुन कर उन्होंने तो यहां तक कह दिया कि अगर लाइसेंस नहीं मिला तो आफिस मत आना. मैं ने सारे पापड़ बेल कर देख लिए, रोहित, कल फाइल पर साइन हो जाएंगे. सहायक कंट्रोलर मोहन तो आज ही हमारी कंपनी की फाइल पर साइन कर के आवेदनपत्र को निरस्त कर रहे थे, बहुत मिन्नतों के बाद एक दिन के लिए फाइल को पेंडिंग किया है. तभी तो मिस्टर सूद ने आप को यहां भेजा है,’’ दत्ता कहतेकहते रुक गया.

ये भी पढ़ें- पहला पहला प्यार : मां को कैसे हुआ अपने बेटे की पसंद का आभास

‘‘सूद साहब ने खुला आफर दिया है कि जितना पैसा खर्च हो, लाइसेंस हर हालत में चाहिए,’’ रोहित ने दत्ता से कहा, ‘‘मेरी पूरी अटैची नोटों से भरी हुई है.’’

‘‘देखो रोहित, हमारी कंपनी की फाइल असिस्टेंट कंट्रोलर मोहन के पास है और वह रिश्वत नहीं लेता है.’’

‘‘दत्ता, मैं यह मानने को तैयार नहीं हूं कि आज के समय में कोई रिश्वत नहीं लेता है,’’ रोहित ने आश्चर्य से कहा.

‘‘सच यही है कि आज के इस भ्रष्ट दौर में मोहन जैसा ईमानदार व्यक्ति भी है.’’

‘‘उस की कोई तो कमजोरी होगी, जिस का हम फायदा उठा सकते हैं,’’ रोहित ने समय की नजाकत को भांपते हुए पूछा.

‘‘शरीफ आदमी की कोई कमजोरी नहीं होती है. शराफत ही उस की कमजोरी समझो या ताकत, मुझे मालूम नहीं, लेकिन एक बात साफ है कि उस का भ्रष्ट न होना हमें भारी मुसीबत में डाल सकता है. मुझे पता है कि तुम ने जिंदगी में कभी असफलता का मुंह नहीं देखा है, लेकिन इस बार सावधान रहना.’’

‘‘दत्ता, मोहन तो असिस्टेंट कंट्रोलर है, हम चीफ कंट्रोलर से मिल सकते हैं.’’

‘‘रोहित, कोई फायदा नहीं होने वाला है. फाइल पर मोहन की लिखी टिप्पणी को चीफ कंट्रोलर भी नजरअंदाज नहीं कर सकता है.’’

‘‘मगर क्यों?’’

‘‘लगता है मिस्टर सूद ने तुम्हें पूरी बात बताई नहीं है, तभी तुम ज्यादा उत्साहित लग रहे हो,’’ दत्ता ने बात आगे बढ़ाते हुए कहा, ‘‘रोहित, विस्फोटक नियमों के अनुसार हमें कंपनी में जितना खुला क्षेत्र रखना था उस का आधा भी नहीं रखा है, जिस की लिखित शिकायत हमारी प्रतिद्वंद्वी कंपनी ने की है, जिस के आधार पर अब हमारी फैक्टरी को ‘शो काज’ नोटिस दिया जाएगा और हम बिना लाइसेंस के प्रोडक्शन शुरू नहीं कर सकते. नियमों का पालन करने का मतलब है, फैक्टरी में तोड़फोड़ और पैसे व समय की बरबादी, जिसे सूद साहब बरदाश्त नहीं कर सकते हैं.’’

‘‘क्या हमें नियम मालूम नहीं थे?’’

‘‘मालूम थे, लेकिन एक तो सूद साहब का लालच और दूसरे कुछ लोगों की गलत राय. फैक्टरी पहले नियमों के अनुसार बन रही थी, खुला क्षेत्र भी नियमों के अनुसार ही छोड़ा जा रहा था लेकिन बाद में नक्शे में परिवर्तन कर के खुला क्षेत्र कम कर दिया गया.’’

‘‘लेकिन क्यों?’’

‘‘ज्यादा प्रोडक्शन के लिए और अधिक मशीनें लगाई गई हैं.’’

दत्ता ने बात को आगे बढ़ाते हुए कहा, ‘‘तुम्हें शायद विपिन की कहानी का पता नहीं है. दरअसल, विपिन ने मिस्टर सूद को सलाह दी थी कि लाइसेंस लेने के बाद ओपन एरिया कवर करना चाहिए, लेकिन कुछ दूसरे लोगों के कहने पर और पैसे के घमंड में सूद साहब ने खुलेआम सभी के सामने विपिन को डांट लगाई और उस की खिल्ली उड़ाई. विपिन अपने इस अपमान को सहन नहीं कर सका और उस ने नौकरी छोड़ दी.

‘‘शायद अपने अपमान का बदला लेने के लिए ही विपिन ने प्रतिद्वंद्वी कंपनी ज्वाइन की है और उस की लिखित शिकायत पर विस्फोटक विभाग भी चुप नहीं बैठा. चूंकि वह जांच में भरपूर मदद कर रहा है, इसलिए हमें लाइसेंस नहीं मिल रहा है.’’

‘‘चलो, सुबह देखते हैं,’’ कह कर रोहित बिस्तर पर लेट गया, लेकिन काफी देर तक उस की आंखों में नींद नहीं आई. आंखें बंद कर सोचता रहा कि कैसे इस मसले को हल किया जाए.

सुबह 10 बजे रोहित और दत्ता विस्फोटक विभाग के मुख्यालय पहुंच गए और मोहन के केबिन के बाहर बैठ कर इंतजार करने लगे. मोहन जैसे ही दफ्तर आया, अपने केबिन के आगे रोहित को बैठा देख कर वह रुक गया.

‘‘रोहित, तुम और यहां…अरे, यह कैसा सुखद आश्चर्य है,’’ मोहन खुशी से हंसते हुए बोला.

‘‘मोहन, आज हम सालों बाद एकदूसरे से मिल रहे हैं तो साबित होता है कि दुनिया गोल है.’’

‘‘रोहित, चलो, केबिन मेें बैठ कर आराम से बात करते हैं.’’

मोहन और रोहित दोनों बचपन के दोस्त थे. स्कूल और कालिज में एकसाथ पढ़ते थे. दोनों के परिवार पुरानी दिल्ली के कूचा घासीराम में रहते थे. हमउम्र और एक ही गली में रहने के कारण दोनों का समय एकसाथ बीतता था. वे सिर्फ रात को सोने के लिए एकदूसरे से अलग होते थे. स्कूल और कालिज में एकसाथ पढ़ाई की. बी.काम. करने के बाद रोहित एमबीए करने अमेरिका चला गया और मोहन ने नौकरी कर ली.

इतने में चपरासी चाय ले आया. चाय की चुस्कियों में मोहन ने रोहित से पूछा, ‘‘आजकल रिहाइश कहां रखी है? लगभग 10 साल पहले मैं दिल्ली गया था. तुम ने मकान बेच दिया था. बहुत कोशिशों के बाद भी मुझे तुम्हारे नए मकान का पता नहीं चला. तब मैं ने देखा था कि आसपास सभी जगह आफिस बन गए थे और जिस बिल्ंिडग में मैं रहता था वहां बैंक खुल गया था.’’

‘‘हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से एमबीए करने के बाद जब मैं दिल्ली वापस आया तब तुम मकान छोड़ कर जा चुके थे. 2-3 साल बाद मेरे घर वालों ने भी मकान बेच कर ग्रेटर कैलाश में कोठी बनवा ली. तभी से परिवार के साथ वहीं रह रहा हूं.’’

‘‘अच्छा, यह बताओ, इस आफिस में तुम्हारा कैसे आना  हुआ?’’ मोहन ने पूछा.

‘‘मोहन, मैं सूद एंड कंपनी में जनरल मैनेजर हूं और यहां लाइसेंस के सिलसिले में आया हूं.’’

कुछ पल की खामोशी के बाद मोहन ने कहा, ‘‘बचपन के दोस्त हो और लगभग 20 सालों के बाद मिले भी तो किन हालात में, यह इत्तफाक भी अजीब सा है.’’

रोहित भी कुछ बोल न सका. बचपन के साथी से लाइसेंस की कोई बात न कर सका.

चुप्पी तोड़ते हुए मोहन ने कहा, ‘‘रोहित, तुम्हारे आने का मकसद मैं समझ सकता हूं लेकिन मैं तुम्हारी मदद नहीं कर सकता हूं. तुम्हारी कंपनी के खिलाफ शिकायत की मैं ने जांच करवाई है, मेरे कुछ सिद्धांत हैं. मैं रिश्वत नहीं लेता हूं और निरीक्षण के दौरान जो अनियमितताएं पाई गई हैं उन के आधार पर लाइसेंस के लिए मैं अनुमति नहीं दे सकता हूं.’’

ये भी पढ़ें- छोटी छोटी बातें : इनसान कभी अपना बचपन छोड़ना नहीं चाहता

‘‘मोहन, इस बारे में अब मैं क्या बोलूं. फिर भी तुम से दिल की बात कह सकता हूं, क्योंकि तुम बचपन के दोस्त हो. जीवन में कभी मैं ने असफलता का सामना नहीं किया. अगर लाइसेंस नहीं मिला तो मुझे नौकरी छोड़नी पड़ेगी और पहली बार असफलता का कारण दोस्ती बनेगी. मुझे अपनी इस असफलता पर तुम से कोई शिकायत भी नहीं होगी, लेकिन मोहन, कुछ रास्ता निकालो. हर समस्या का कोई न कोई समाधान तो होता है न. इस भ्रष्ट समाज में तुम जैसे ईमानदार आदमी को देख कर मुझे खुशी है. और सब से अधिक खुशी इस बात की है कि वह ईमानदार आदमी मेरा बचपन का सखा है.’’

रोहित की बात सुन कर मोहन ने कहा, ‘‘रोहित, मैं जानता हूं कि यहां मुझे छोड़ कर हर कोई भ्रष्ट है, मैं समाज से भ्रष्टाचार समाप्त नहीं कर सकता. हां, तरीके तो बहुत हैं, मुझे सोचने के लिए वक्त दो. कल सुबह बात करते हैं.’’

‘‘तुम बुरा तो नहीं मानोगे,’’ झिझकते हुए रोहित ने मोहन से पूछा, ‘‘क्या शाम को मैं तुम्हारे घर आ सकता हूं?’’

‘‘तुम्हारा ही घर है, बेझिझक आ सकते हो,’’ कहते हुए मोहन ने एक कागज पर अपने घर का पता लिख कर रोहित को पकड़ा दिया.

रोहित और दत्ता होटल आ गए.

शाम को रोहित और दत्ता मोहन के घर रूप नगर के लिए चले. रास्ते में एक मिठाई की दुकान पर रुक कर रोहित ने मिठाई खरीदी.

‘‘कुछ गिफ्ट ले चलते हैं,’’ दत्ता ने कहा.

‘‘नहीं, दोस्ती को मैं पैसे में नहीं तोलना चाहता हूं. ऐसे दोस्त बहुत तकदीर से मिलते हैं. अगर आज पहली बार असफलता भी मिले तो कोई गम नहीं, क्योंकि मैं अपने दोस्त को खोना नहीं चाहता हूं. सोच लिया है कि अगर लाइसेंस नहीं मिला तो नौकरी छोड़ दूंगा.’’

इतने में मोहन का घर आ गया. 200 मीटर के प्लाट पर सिर्फ 2 कमरों का सेट बना था और सारा प्लाट खाली. घर के बाहर और अंदर दीवार के साथ फलदार पेड़ और पौधे घर की खूबसूरती में चार चांद लगा रहे थे.

मोहन ने रोहित और दत्ता का स्वागत किया. घर के अंदर बैठक में मोहन की पत्नी नीलम ने नाश्ते का इंतजाम कर रखा था. रोहित ने नीलम को मिठाई का डब्बा पकड़ाते हुए धीरे से हेलो कहा.

चाय पीने के बाद मोहन ने रोहित को अपना घर दिखाया, ‘‘यह बैठक कम हमारा बेडरूम है, दूसरा बच्चों का बेडरूम, रसोई, बाथरूम और पीछे लान, जहां नीबू के झाड़ के साथ पपीते और अमरूद के पेड़ हैं.

‘‘एक छोटा सा साफसुथरा घर, जहां जरूरत की हर चीज बड़े करीने से मौजूद थी, लेकिन कोई भी विलासिता का सामान नजर नहीं आया.

‘‘यार, मोहन, तुम ने खाली प्लाट छोड़ रखा है, 1-2 कमरे और बनवा लो.’’

‘‘उस के लिए रकम चाहिए और तुम तो जानते हो कि रिश्वत मैं लेता नहीं और तनख्वाह में यह मुश्किल है, क्योंकि बच्चे बड़े हो रहे हैं, उन की पढ़ाई और कुछ भविष्य के लिए भी बचत करनी है.’’

‘‘बच्चे नजर नहीं आ रहे हैं,’’ रोहित ने उत्सुकता से पूछा.

‘‘भई, तुम्हारे लाइसेंस के चक्कर में बच्चों का जिक्र तो रह ही गया. एक लड़का और एक लड़की हैं. दोनों कालिज में पढ़ते हैं और छुट्टियां मनाने वे न्यू समरहिल गए हैं. मैं भी पत्नी के साथ कल सुबह 10 दिन के लिए, बच्चों के पास जा रहा हूं. शाम को छुट्टी मंजूर करवाई है.’’

छुट्टी का नाम सुनते ही रोहित हक्काबक्का रह गया.

मोहन इस बात को भांप गया था. चेहरे पर मुसकराहट लाते हुए बोला, ‘‘मेरे दोस्त, तुम इस बात को नहीं समझ सकते पर आफिस में मेरी मौजूदगी में तुम्हें लाइसेंस मिल नहीं सकता है क्योंकि ऐसे काम मेरी गैरमौजूदगी में होते हैं. सारी दुनिया के गलत काम होते हैं, एक और सही, दोस्ती की खातिर, इसीलिए मैं ने चीफ साहब से बात कर ली है. मैं 10 दिन की छुट्टी जा रहा हूं, तुम्हारा काम हो जाएगा.’’

रोहित को अपनी काबिलीयत और पैसे पर घमंड था. वह हमेशा समझता था कि पैसे के बलबूते सबकुछ संभव है, लेकिन आज यहां बाजी पलट गई. पैसे पर बचपन की दोस्ती हावी हो गई. पैसा हार गया और दोस्ती जीत गई. रोहित, मोहन की बात चुपचाप सुनता रहा.

‘‘रोहित, जब भी मेरे द्वारा आब्जेक्शन फाइल को पास करना होता है तो मुझे छुट्टी पर भेज दिया जाता है, ताकि कोई दूसरा अफसर उसे पास कर सके, आज मैं ने खुद छुट्टी मांगी है ताकि तुम्हारा काम हो सके. चलो, छोड़ो इस विषय को, रात काफी हो चुकी है, डिनर करते हैं.’’

खाना खाते हुए दत्ता पहली बार बोला, ‘‘मोहनजी, मैं आप के सिद्धांतों की कद्र करता हूं, क्या मैं आप का दोस्त बन सकता हूं?’’

‘‘बेशक, हर सच्चा आदमी मेरा दोस्त बन सकता है.’’

‘‘मैं आप की कसौटी पर खरा उतरने की भरपूर कोशिश करूंगा.’’

डिनर के बाद रोहित और दत्ता होटल वापस आ गए पर रोहित खामोश ही बना रहा. दत्ता ने चुप्पी तोड़ते हुए कहा, ‘‘रोहित, तुम्हें अपने दोस्त पर गर्व होना चाहिए, जिस ने दोस्ती पर सिद्धांतों की बलि दे दी. जिस काम को पैसे नहीं कर सके उसे दोस्ती ने कर दिखाया.’’

‘‘लेकिन पैसे तो फिर भी लगेंगे,’’ रोहित ने कहा.

‘‘आज पहली बार असफल हुए हो रोहित, पर मेरी बात मानो, इस दोस्ती को कभी मत छोड़ना,’’ दत्ता बेहद भावुक हो गया था.

अगली सुबह मोहन आफिस में नहीं था. उस के सहयोगी सोहन के पास फाइल भेज दी गई. फाइल में से आपत्तिजनक कागजों को निकाल कर दूसरे कागज लगा दिए गए. आफिस में बैठ कर फैक्टरी का निरीक्षण भी हो गया और संतोषजनक रिपोर्ट लगा कर 3 दिन में लाइसेंस जारी कर दिया गया. कल तक जो काम असंभव लग रहा था पैसों के बोझ में दब कर संभव हो गया. लाइसेंस हाथ में आते ही रोहित खुशी से उछल पड़ा, झट से सूद साहब को फोन किया.

‘‘गुड न्यूज, सर, लाइसेंस मिल गया.’’

ये भी पढ़ें- प्यार का व्यापार

‘‘वैल डन रोहित, मैं जानता था कि तुम यह काम कर लोगे, इसीलिए मैं ने तुम्हें यह काम सौंपा था,’’ सूद साहब की आवाज में एक नई ताकत नजर आ रही थी.

‘‘रोहित, तुम मानो या न मानो, पर तुम ने बाजी जीत कर हारी है और मोहन ने दोस्ती के नाम पर अपने सिद्धांतों की बलि दे कर बाजी जीत ली है,’’ इतना कह कर दत्ता मंदमंद मुसकरा रहा था और रोहित अवाक् हो उस को देखता रह गया.

महमोहन भाटिया  

Tags:
COMMENT