यह कोई नई बात नहीं थी. सांवरी कोशिश करती कि ऐसी स्थिति में वह सामान्य रहे, लेकिन फिर भी उस का मन व्यथित हो रहा था. किचन में से भाभी की नफरत भरी बातें उसे सुनाई दे रही थीं, जो रहरह कर उसे कांटे की तरह चुभ रही थीं. किचन से बाहर निकल कर जलती हुई दृष्टि से सांवरी को देखते हुए भाभी बोलीं, ‘‘जाइए, जा कर तैयार हो जाइए महारानीजी, जो तमाशा हमेशा होता आया है, आज भी होगा. लड़के वाले आएंगे, खूब खाएंगेपीएंगे और फिर आप का यह कोयले जैसा काला रूप देख कर मुंह बिचका कर चले जाएंगे.’’

Tags:
COMMENT