दो प्यार करने वालों के बीच धर्म की दीवार खड़ी करने वाले क्या जानें प्यार करने वालों की दीवानगी, जो धर्म क्या, समाज के सारे रस्मोंरिवाज को तोड़ देती है.

‘‘10 मिनट पहले शुरू हो चुकी होगी क्लास.’’ कालेज के गेट से अंदर आते हुए अपने मोबाइल में टाइम देख अमन बोला.

‘‘यह दिल्ली की धोखेबाज मैट्रो, आज ही रुकना था इसे रास्ते में. क्या यार,’’ सिर झटक कर निराश स्वर में साक्षी ने कहा.

दोनों लगभग भागते हुए क्लासरूम की ओर जा रहे थे.

‘‘प्रशांत सर के लैक्चर में लेट होने का मतलब है क्लास में प्रवेश करते ही खूब सारी डांट, टाइम की वैल्यू पर लंबा सा भाषण और आज तो...’’

‘‘क्या आज तो? डरा क्यों रहा है?’’ साक्षी ने शिकायती अंदाज में पूछा.

‘‘हम दोनों हैं एकसाथ, कोई और दोस्त नहीं है.’’

‘‘ओ माय गौड, मैं तो भूल ही गई थी. लड़कालड़की साथ, मतलब सर का पारा हाई.’’

‘‘वही तो. एक दिन नेहा और कार्तिक कैंटीन में साथसाथ बैठे थे. प्रशांत सर भी पहुंच गए वहां. वे पूछने लगे, उन का रिलेशन, दोनों की कास्ट वगैरहवगैरह.’’

‘‘लगता है सर की शादी नहीं हुई, तभी तो किसी का प्यार देखा नहीं जाता इन से. पिछले महीने कालेज के फाउंडेशन डे पर सभी टीचर्स अपने परिवार के साथ आए थे, लेकिन सर अकेले ही थे. फिफ्टी प्लस तो होंगे ही न, ये सर?’’ साक्षी प्रशांत सर की आयु का अनुमान लगाने लगी.

‘‘हां, फिफ्टी? फिफ्टी फाइव प्लस होंगे, यार.’’

‘‘बेचारे, कुंआरे बिना सहारे,’’ साक्षी ठहाका लगा कर हंस पड़ी.

‘‘चुप, चुप, क्लासरूम आ गया.’’ अमन ने अपने होंठों पर उंगली रख साक्षी को चुप रहने का इशारा किया और दोनों क्लासरूम के भीतर चले गए.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT