माया अपने रूम में लेटी टी वी देख रहीं थी कि  उन्हें अपने बेटे अनिल की फ़ोन पर जोर जोर से बोलने की आवाज आयी , उन्होंने टी वी की आवाज बंद की , कान बेटे की चिंतित आवाज पर  लगा दिए , अनिल किसी से  कह रहा था , डॉक्टर साहब , आभा  आपकी पेशेंट है , उसकी कमर  में अचानक फिर कुछ हो गया है , आप सोसाइटी में ही तो हो,  आपको तो पता ही है , अभी लॉक डाउन में हमारी सोसाइटी का  मेडिकल स्टोर फिलहाल बंद है , कुछ तो आपके पास दवाई होगी , आप कहो तो  मैं आकर आपके यहाँ से  ले जाता हूँ ''
फिर माया को अंदर लेटे  लेटे समझ आ गया कि  उनकी बहू आभा को कमर में कुछ दर्द है.उनका मन हुआ , जाएँ , देखें कि आभा को क्या हुआ है , उठ कर बैठीं  , फिर लेट गयीं , सोचा , छोड़ो , कुछ भी  कहूँगी , उल्टा ही जवाब देगी.निपटें खुद ही उन्होंने फिर टी वी देखना शुरू किया ही था कि बेटे के अंदर आते ही फिर टी वी बंद करके उसका मुँह देखने  लगी , इतने में पीछे पीछे पांच साल  की पोती  टिनमिन भी  आ गयी , '' दादी , क्या देख  रही हो ?'' उनके कुछ बोलने से पहले ही बेटे ने परेशान होते हुए कहा ,'' माँ , आभा लैपटॉप पर शायद बहुत देर से कुछ काम कर रही  थी , अचानक  उठी तो बहुत बुरा बैकपेन हुआ , अब तो हिल भी नहीं  पा रही , डॉक्टर से बात हुई  , वह कह रही है कि उनकी बिल्डिंग में एक कोरोना का केस हो गया है , बिल्डिंग सील्ड है , वह कुछ दवाई नहीं दे पाएंगीं , बस रेस्ट बोल दिया''
''तो मैं क्या करूँ ?''
''टिनमिन को नाश्ता देना है , और हमें भी भूख लगी है  कुछ बना दो , माँ ''
'' मेरा बनाया उसे पसंद आएगा ?''
''चलो न , माँ , छोड़ो न अभी यह , भूख लगी है ''

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT