रोहिणी का अतीत आज एक बार फिर उस की बेटी शिखा के रूप में उस के सामने खड़ा था. वह किसी भी सूरत में शिखा के सपने पूरे होते देखना चाहती थी. लेकिन उसे समझ नहीं आ रहा था कि वह शिखा को अपने अतीत से कैसे अवगत कराए? तभी शिखा के एक जवाब ने उस की सारी दुविधाओं का समाधान कर दिया.

Tags:
COMMENT