कहानी के बाकी भाग पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

राहुल बोला, ‘‘अब क्यों आए हैं? अब मैं अपनी मां का खयाल रख सकता हूं. उस समय कहां थे जब मां को आप की सब से ज्यादा जरूरत थी. मां ने क्याक्या नहीं भुगता. उन को दूसरों को जवाब देना पड़ा. आप को अंदाजा भी नहीं होगा.’’ वह आगे भी कुछ कहता तभी मैडम बोल पड़ीं, ‘‘तुम्हारे पापा का कोई दोष नहीं है.’’

यह सुन कर राहुल बोला, ‘‘मैडम, आप बीच में मत पडि़ए. यह हमारा पारिवारिक मामला है. आप मत बोलिए.’’

मैडम बोलीं, ‘‘मैं तुम्हारे पापा की ब्याहता हूं.’’ यह सुनते ही मां और राहुल चौंक गए.

राहुल बोला, ‘‘तभी आप ने वे प्रश्न पूछे जिन का इंटरव्यू से कोई संबंध नहीं था.’’ ‘‘तुम को देख कर मैं चौंक गई थी. पर मुझे खुशी भी हुई थी. लेकिन मैं चाहती थी कि पहले अपनी शंकाओं का समाधान कर लूं. जैसेजैसे उत्तर मिल रहे थे, मेरी खुशी बढ़ती जा रही थी. बस, मेरी एक ही चिंता थी कि क्या तुम्हारे पापा को पता था कि तुम्हारी मां गर्भवती थीं? इसलिए मैं ने तुम से पूछा था कि इंटरव्यू के बाद कहां जाओगे? क्योंकि मैं तुम्हारी मम्मी से अकेले में मिलना चाहती थी. मैं तुम्हारी मम्मी से मिली भी थी और यह भी पता चल गया कि उस समय तक तुम्हारे पिता को यह बात पता नहीं थी. मुझे एक तरह से संतुष्टि हुई थी. एक और गुनाह से बच गई थी.’’

‘‘क्या पापा ने सारी बातें आप को बता दी थीं?’’

‘‘मैं विस्तार से बताती हूं, उस दिन तुम्हारे पापा कुछ फाइलों पर मेरे पापा के दस्तखत लेने घर आए थे. तभी पापा को दिल का दौरा पड़ा. तुम्हारे पापा ने उस समय सब संभाल लिया था. डाक्टरों ने उन को बाहर ले जाने के लिए कहा. मेरे पापा के साथ तुम्हारे पापा चले गए. उन्होंने तुम्हारे घर पर सूचित करने की जिम्मेदारी मुझ पर डाल दी. मैं तुम्हारी मम्मी को सूचित करना भूल गई. पापा को वहीं करीब 15 दिन लग गए.’’ सब सुन रहे थे. मैडम बता रही थीं, ‘‘अब मेरे पापा को मेरी और अपने व्यापार की चिंता हुई. उन को सब से विश्वसनीय तुम्हारे पापा लगे. तुम्हारे पापा ने अपने लिव इन रिलेशन के बारे में बता दिया फिर भी मेरे पापा राजी थे, वे अपनी जिद पर अड़े रहे. राज को पापा यह बात बारबार कहते रहे कि वह तुम्हारी ब्याहता नहीं है, हो सकता है कि उसे कोई और मिल जाए. डाक्टर ने कह दिया था कि पापा के लिए कोई भी सदमे वाली बात जानलेवा हो सकती है. तब मैं ने तुम्हारे पापा को सुझाव दिया, हम दोनों नकली शादी कर लेते हैं. और हमारी शादी सादगी से बिना तामझाम के हो गई. ‘‘फिर पापा लग गए राज को व्यापार की बारीकियां समझाने. उन्होंने सारा व्यापार मेरे और राज के नाम कर दिया.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

सरिता डिजिटल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

प्रिंट + डिजिटल प्लान

USD100USD79
12 महीने (24 प्रिंट मैगजीन+डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...