कहानी के बाकी भाग पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

बाजार में सब्जी का रेट जान कर साक्षी के होश उड़ गए. अरेपागल हो गए हो क्यासब्जी बेच रहे हो या सोना120 रुपए किलो गोभी कहां मिलता है70 रुपए से एक रुपया भी ज्यादा नहीं दूंगी. समझ लो,” खुद से गोभी चुन कर तराजू पर चढ़ाते हुए साक्षी बोली.

नहीं मैडमजीभाव तो एक रुपए भी कम नहीं होगा,” तराजू पर से गोभी नीचे रखते हुए सब्जी वाला बोला, “आप कहीं से भी जा कर पूछ लो. सब्जियां इस से कम में मिल जाएं तो... और अभी तो सब्जियों के भाव और ऊपर भागेंगे,“ सब्जियों पर पानी का छिड़काव करते हुए सब्जी वाला दूसरे ग्राहकों से बात करने लगातो साक्षी खीज उठी. एक तो मन किया कि उस की सब्जी ही न ले. मगर घर से हुक्म मिला है कि गोभी तो ले कर ही आनातो ले कर जाना पड़ेगा न.

लेकिनयह तो बहुत ज्यादा है भैया. कुछ तो कम करो,” साक्षी ने पैसा कम कराने की गरज से बोला. लेकिन सब्जी वाला टस से मस न हुआ. अच्छा भईठीक हैचलोतौल दो आधाआधा किलो गोभीटमाटरमटर. और हांएक गड्डी पालक भी देना और साथ में धनियामिर्ची भी डाल देना.

एकदम लूट मची है सच में. हर चीज महंगी होती जा रही है. पैट्रोलडीजल के दामों में भी आग लगी हुई है. आखिर आदमी जिए तो कैसेइस सरकार ने तो लोगों की कमर ही तोड़ रखी है. पहले नोटबंदीफिर जीएसटीउस के बाद कोरोना ने क्या कम मुसीबत ढाए हैं लोगों के ऊपरजो दिनप्रतिदिन महंगाई भी डंक मार रही है,’ अपनेआप में ही भुनभुनाते हुए साक्षी पर्स से पैसे निकालने लगी कि देखासब्जी वाला उसे छोड़ दूसरेतीसरे ग्राहकों को सब्जियां तौल रहा है.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

डिजिटल

(1 साल)
USD10
सब्सक्राइब करें

डिजिटल + 24 प्रिंट मैगजीन

(1 साल)
USD79
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...