कहानी के बाकी भाग पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

अचानक चपरासी ने आ कर कहा, ‘साहबबाहर एक मैडम आई हैं.’‘जल्दी भेजो,’ कह कर उन्होंने गला ठीक किया. आसपास की रखी चीज़ों को ठीक किया. घबराहट में पानीपियातभी दरवाज़ा खुला. उन की धड़कन और तेज़ हो गई पर सामने एक अन्य महिला को देख कर न जाने क्यों बुरा लगा क्योंकि उन्हें तो साची का इंतजार था. खैरअपने को संयत कर के उन्होंने उन महिला को बुला कर बैठाया और आने का कारण पूछा. काम खत्म हो जाने पर जब वे चली गईं तब उन्होंने अपने दिल को टटोला और पाया कि हां उन्हें साची का ही इंतज़ार था और साची के विदेश जाने के फैसले से उन्हें तकलीफ भी हो रही थी. इंतजार करतेकरते जब शाम हो गई तो निराशा ने घेर लिया.

दूसरे दिन औफिस में अपने कमरे में फाइलों में उलझे थे कि औफिस का दरवाज़ा खुला और खुशबू से कमरा भर गया. उन्होंने सिर उठाया तो सामने साची खड़ी मुसकरा रही थी.क्या कर रहे हैं जनाबआखिर कब तक फाइलों में उलझे रहेंगेअरेएक असिस्टैंट रख लीजिए. काम आसान हो जाएगा.कहां ढूंढूंहो जाता है काम. हांइसी बहाने थोड़ा और समय कट जाता है. मुझे कौन घर जाने की जल्दी है.

क्योंक्या घर में पत्नी और बच्चे नहीं हैं?’‘नहीं18 वर्ष पहले मेरी पत्नी हमें बच्चों के साथ छोड़ कर दूसरी दुनिया में चली गईं.’‘ओहसौरी. क्या बेटे साथ नहीं रहते?’‘नहींएक पूना में है और बड़ा वाला सिंगापुर में.

थोड़ी देर तक साची चुपचाप बैठी रहीफिर थोड़ा गंभीर हो कर बोली, ‘इस का मतलब आप की हालत मेरे जैसी ही है. मेरे पति भी 8 साल पहले बच्चों को मेरे सहारे छोड़ कर उसी दुनिया में चले गए जहां जाने के बाद कोई वापस नहीं आता. बसयादों के सहारे जिंदगी काटनी होती है.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

डिजिटल

(1 साल)
USD10
सब्सक्राइब करें

डिजिटल + 24 प्रिंट मैगजीन

(1 साल)
USD79
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...